Search

Home / Uncategorized / शाकाहारी भोजन के लिए दुनिया का पहला प्रमाणन शुरू किया गया।

Wp Satvik

शाकाहारी भोजन के लिए दुनिया का पहला प्रमाणन शुरू किया गया।

Sonali Bhadula | सितम्बर 21, 2021

भारतीय सात्विक परिषद द्वारा स्थापित शाकाहारी और संबद्धित समर्थको के लिए दुनिया का पहला शाकाहारी खाद्य सुरक्षा और नियामक अनुपालन किया गया। इस योजना का मुख्य लक्ष्य भारत और विश्व के बाजारों में शाकाहारी/शाकाहारी दुकानदारों के लिए एक ‘शाकाहारी वातावरण’ प्रदान करना है, जिसमें सभी संबंधित क्षेत्रों में 100 प्रतिशत सुनिश्चित करने की क्षमता है।

प्रमाणन जो दुनिया भर के सभी शाकाहारियों के लिए वन-स्टॉप होगा। यह सात्विक सत्त्वम, सात्विक शाकाहारी और सात्विक जैन के खाद्य प्रकार के प्रमाणीकरण की पेशकश कर रहा है, हलाल प्रमाणन की स्वरूप पर इस्लाम के समर्थकोऔर यहूदियों द्वारा कोषेर को प्राथमिकता दी जाती है। यह अपनी तरह का पहला वैश्विक स्तर पर चलने वाला प्रोग्राम है।

भारतीय सात्विक काउंसिल के संस्थापक, अभिषेक बिस्वास ने आईएएनएस को बताया। “हमारे प्रमाणन का उद्देश्य उपभोक्ताओं के लिए शाकाहारी भोजन की गुणवत्ता और खाद्य सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों के समग्र प्रदर्शन में सुधार करना है। हम शाकाहार को बढ़ावा देने में नहीं हैं। हम आईएसओ की तरह ही एक मानक प्रदाता हैं, ”उन्होंने कहा।
“लोग हमारे पास पहुंचने वाले हैं। अब हम 170 देशों में काम कर रहे हैं। वेरिटास हमारा साथी है; हमें चिंता करने की कोई बात नहीं है, ”बिस्वास ने कहा, कंपनी का लक्ष्य 2025 तक किचन, मोटल, मर्चेंडाइज और टेक्सटाइल समेत करीब 10 लाख संस्थानों को प्रमाणित करना है। उन्होने आगे कहा कि-“सात्विक एक छत्र शब्द है। उदाहरण के लिए, भोजन, आतिथ्य, वस्त्र, डेयरी, आदि जैसे 200 रूपांतर हैं। हम एक समानार्थी नहीं चाहते थे। इसलिए, हमने इस अम्ब्रेला टर्म को चुना है।

Wp Satvik

 

साथ ही ब्यूरो वेरिटास (भारत) के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अमित घोष ने भी इस विषय पर अपनी टिप्पणी देते हुए कहा कि- (वस्तु, उद्योग और सुविधाएं प्रभाग) उन्होंने बहुत सारे शोध, क्षेत्र के विशेषज्ञों के परामर्श और सात्विक परिषद के इनपुट के बाद भारत की एक व्यापक सात्विक प्रबंधन प्रणाली विकसित की है। उन्होंने कहा कि मानकों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करने के लिए पूरी आपूर्ति श्रृंखला का समय-समय पर ऑडिट, सत्यापन और प्रमाणन के साथ-साथ निगरानी का भी पूरा ध्यान ऑडिट के माध्यम से किया जाएगा।
नए मानकों के साथ, घोष ने कहा कि आपूर्तिकर्ता और खाद्य व्यवसाय उनके लिए प्रमाणन एजेंसी द्वारा निर्धारित दिशा-निर्देशों का पालन करके अपने उद्देश्य निर्धारित कर सकते हैं।

घोष के अनुसार, सात्विक के तहत प्रमाणन की चार अलग-अलग श्रेणियां होंगी, जो मूल सात्विक शाकाहारी से शुरू होकर सात्विक शाकाहारी और फिर सात्विक जैन और अंततः सात्विक सत्त्वम प्रमाणन से तक होंगी।

Disclaimer-: BetterButter इस ब्लॉग में प्रकाशित किसी भी चित्र अथवा वीडियो का आधिकारिक दावा नहीं करता है। इस ब्लॉग में सम्मिलित दृश्य-श्रव्य सामग्री पर मूल रचनाकार के अधिकार का हम पूरा सम्मान करते है तथा प्रकाशित रचना का उचित श्रेय रचनाकार को देने का पूर्ण प्रयास करते है। अगर इस ब्लॉग में सम्मिलित किसी भी चित्र या वीडियो पर आपका कॉपीराइट है और आप उसे BetterButter पर नहीं देखना चाहते तो हमसे संपर्क करें। उक्त सामग्री को ब्लॉग से हटा दिया जायेगा। हम किसी भी सामग्री के लेखक, फोटोग्राफर एवं रचनाकार को उसका पूरा श्रेय देने में विश्वास करते है।

Sonali Bhadula

BLOG TAGS

Uncategorized

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *