बच्चों को गलत सांगत में पड़ने से कैसे रोकें?

Spread the love

बच्चे की अच्छी परवरिश एक माता पिता की सबसे महत्वपूर्ण जिम्मेदारी होती है। बच्चे के जन्म से ही माता पिता उसके भविष्य के बारे में सोचने लगते है। और यहाँ तक कि कई लोग तो बच्चे के जन्म के पहले से ही उसके लिए एक बेहतर भविष्य सोच के रखते हैं।

बच्चे गीली मिट्टी के सामान होते हैं जिन्हे हम किसी भी सांचे में आसानी से ढाल सकते हैं। एक बच्चे का भविष्य कैसा होगा ये निर्भर करता है कि वो कैसी संगति में रह रहा है। अच्छी संगति हमारे बच्चे को एक अच्छे भविष्य की ओर अग्रसर कराती है और गलत संगति गलत की ओर।

यूँ तो कहा जाता है कि बच्चे का पहला स्कूल उसका घर होता है और उसके पहले शिक्षक उसके मातापिता होते हैं मगर कई बार घर में अच्छी परवरिश के बावजूद हमें अपने बच्चों में कुछ गलत प्रभाव देखने को मिलते हैं। इन गलत प्रभावों का सीधा असर स्कूल में उनके प्रदर्शन पर पड़ता है। उस वक़्त अपने बच्चों पर गुस्सा करने या उनको कोसने से अच्छा है कि हम उनके दोस्त बनकर इस परेशानी की जड़ तक पहुचें। शायद वो किसी गलत संगत में पड़ गए हो। ऐसे में जरुरत है उन्हें उससे बाहर निकालने की।

इस अवस्था से बचने के लिए हमें शुरू से ही अपने बच्चे पर पूरा ध्यान देना चाहिए की कही वो किसी गलत संगत में तो नहीं पड़ गया है।

आज हम इसी के बारे में चर्चा करेंगे कि कैसे आप अपने बच्चे को गलत संगत में पड़ने से रोक सकतीं हैं :

1) कहीं आपके बच्चे आपसे झूठ तो नहीं बोल रहे हैं।

जब भी आप अपने बच्चे से कुछ पूछे या बातें करें तो इस बात पर बिलकुल ध्यान दें कि कहीं वो आपसे किसी बात पर झूठ तो नहीं बोल रहा है। अगर ऐसा लगे कि वो आपसे झूठ बोल रहा है तो उसकी वजह जानने का प्रयास करें क्योंकि आपका बच्चा आपकी जिम्मेदारी है और एक झूठ उसे गलत दिशा में ले जा सकता है।

2) स्कूल में उनके प्रदर्शन पर ध्यान दें।

जब भी आपका बच्चा स्कूल से घर वापस आये तो उसकी नोटबुक जरूर चेक करें इससे आपको ये पता लगेगा कि आपका बच्चा स्कूल में ठीक से पढ़ाई कर रहा है या नहीं। साथ ही साथ उसका होम वर्क भी डेली चेक करें। ज्यादातर बच्चे डायरी में लिखे हुए कम्प्लेन माता पिता से छुपाने का प्रयास करते हैं तो इसे भी रोजाना चेक करें।

3) उनके शिक्षक से लगातार मिलते रहे।

जब भी पेरेंट्स टीचर्स मीटिंग हो बच्चे के स्कूल जाना भूलें। टीचर्स से लगातार मिलते रहे, इससे वो आपके बच्चे के व्यवहार के बारे में आपको लगातार आगाह करते रहेंगे। और साथ ही साथ आपको उन्हें डील करने के बारे में भी बताते रहेंगे।

4) उनके दोस्तों की पूरी जानकारी रखें।

आपका बच्चा किसके साथ रहता है ये उसके भविष्य को बेहतर बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। इसीलिए उनके दोस्तों और उनके परिवार के बारे में पूरी जानकारी रखें।

5) उनके साथ वो कहाँ कहाँ जाते हैं इस बात का ध्यान रखें।

आपका बच्चा अपने दोस्तों के साथ खेलने या घूमने कहाँ कहाँ जाता है इसकी भी पूरी जानकारी आपको होनी चाहिए तभी आप उसे गलत संगत में पड़ने से रोक सकते हैं।

6) अपने बच्चे से ज्यादा से ज्यादा बातें करें।

जितना ज्यादा हो सके समय अपने बच्चे के साथ बिताएं। उन्हें ये महसूस कराएं कि अगर वो कुछ गलत करेंगे तो हमें पता चल जायेगा। इस डर से आपके बच्चे कुछ गलत करने से बचेंगे।

7) उसे सही और गलत में अंतर समझाएं।

जब आप अपने बच्चे से बात करें तो उन्हें सही और गलत में फर्क जरूर समझाएं। उन्हें बताएं कि क्या उनके लिए सही है और क्या गलत जिससे कि वो गलत संगत में पड़े।

चित्र श्रोत: Flickr, Hanscom Air Force Base, Pexels, Huffingtonpost.com, Pixabay, George W. Bush White House, Wikimedia Commons.

 

    

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *