होम / रेसपीज़ / डोली की रोटी

Photo of Doli ki roti by Geeta Sachdev at BetterButter
205
9
0.0(0)
0

डोली की रोटी

Apr-22-2018
Geeta Sachdev
1740 मिनट
तैयारी का समय
15 मिनट
खाना बनाने का समय
10 लोग
पर्याप्त
निर्देश पढ़ें बाद के लिए सेव करे

डोली की रोटी रेसपी के बारे में

डोली की रोटी नाम सुनते ही आप सब के मन में जिज्ञासा उठी होगी कि ये तो कचोरी लग रही है और नाम है रोटी । ये पंजाब प्रांत के मुल्तान शहर (जो अब पाकिस्तान में है) की पारंपरिक रोटी है जिसे बड़ी नज़ाकत व नफासत से बनाया जाता है ।इसके आटे को पारंपरिक तरीके से खमीर उठा कर भरवाँ कचोरी का रूप देकर तला जाता है ।इस रोटी को आप हफ्ते दस दिन तक रख भी सकते हैं ,सफर में साथ रखिये और अचार के साथ खाइये ,दाल वाली रोटी आलू वाली रोटी ,गुड़ वाली रोटी कैसी भी आप बना सकते हो । बच्चे व बड़े सभी को इस रोटी के बनने का इंतज़ार रहता है क्यूँकि जब एक घर में डोली की रोटी का आटा बनाया जाता है तो वो सारे मुहल्ले सगे -संबंधियों को दिया जाता है वो फिर उस ख़मीर उठे आटे के पेड़े से और आटा गूंध कर अपने घर के लिए रोटी बना सकते हैं ।ये मेरी माँ की रेसिपी है जो मैंने उनसे सीखी औऱ अब ये मेरी पसंदीदा डिनर रेसिपी बन गई है ।

रेसपी टैग

  • वेज
  • कठिन
  • डिनर पार्टी
  • पंजाबी
  • तलना
  • मुख्य डिश
  • ग्लूटेन फ्री

सामग्री सर्विंग: 10

  1. खड़े मसाले
  2. 2 चम्मच खसखस
  3. 2 चम्मच दरदरी कुटी हुई सौंफ
  4. 1 छोटा टुकड़ा गुड़ या 50 ग्राम
  5. 4 छोटे टुकड़े दालचीनी
  6. 7 दाने लौंग
  7. 7 दाने काली मिर्च
  8. 5 मोटी इलाइची कुटी हुई
  9. 1/2 जायफल
  10. 2 चम्मच चने की दाल
  11. 1-1/2 गिलास पानी
  12. 2 कलछी सरसों का तेल
  13. पीठी की सामग्री
  14. एक कटोरी चने की दाल
  15. 1 बड़ा चम्मच तेल
  16. 1/4 चम्मच हींग
  17. 1/2 चम्मच जीरा
  18. 1/2 चम्मच सौंफ पाउडर
  19. 1/2 चम्मच धनिया पाउडर
  20. 1/2 चम्मच गर्म मसाला पाउडर
  21. 1/2 चम्मच लाल मिर्च पाउडर
  22. 1/2 चम्मच नमक
  23. तलने के लिए तेल

निर्देश

  1. सभी खड़े मसालों को एक कटोरी में रख लें
  2. 2 चम्मच दाल को एक साफ मलमल के कपडे में बांध कर पोटली बना लें ।
  3. 1-1/2 गिलास पानी एक बर्तन में अच्छी तरह उबाल लें ।
  4. एक छोटे लोटे में सारे मसाले और दाल क़ी पोटली रख दें ।ऊपर से उबलता हुआ गरम पानी डाल कर तुरंत ढक्कन से ढक दें ।लोटे को किसी कपडे में लपेट कर गरम कपडे से ढक दें ।फिर किसी गर्म स्थान पर रखें जहाँ हवा न लगे ।सारी रात के लिए कम से कम 12 घण्टे के लिए रखा रहने दें ।गर्मी के मौसम में 5 से 6 घंटे का समय ही बहुत है ।
  5. बर्तन कपड़े से निकाल कर देखेंगे तो दाल की पोटली के आस पास थोड़ी झाग दिखाई देगी ।इसका मतलब अब आटा गूंधा जा सकता है । इस मौसम में या सर्दी के मौसम में थोडा ज़्यादा समय लग सकता है और ज़्यादा गरम कपडे में रखने की ज़रुरत हो सकती है ।
  6. अब दाल की पोटली को अलग निकाल लें ,और इसमे करीब एक कटोरा गेंहूँ का आटा डालकर गाढ़ा घोल तैयार कर लें ।दोबारा से मिश्रण को ढक कर 10 से 12 घंटे तक या खमीर उठने तक गरम स्थान पर रख दें । गर्मी के मौसम में 5 से 6 घंटे का समय ही बहुत है।
  7. अब इस घोल से गेंहूँ का आटा गूंधे । आटे को ज़्यादा नहीं गूंधना है बस मिलाना है इकटठा करना है साथ ही 2 कलछी सरसों का तेल भी डाल कर मिलाएं ।और फिर से 5 से 6 घंटे के लिए आटा ख़मीर उठने तक रख दें । गर्मी के मौसम में एक दो घंटे के लिए रख दें ।
  8. अब भरने के लिए पीठी की तैयारी कर लेते हैं ।एक कटोरी चने की दाल भिगो कर एक सीटी लगा कर गला लें ।कडाई में तेल डाल कर हींग जीरा सौंफ धनिया गरम मसाला पाउडर लाल मिर्च नमक डालकर छोंक दें और पानी सूखने तक भून लें । पीठी तैयार कर के अलग रख लें आटे की थोड़ी बड़ी पेड़ी/लोई लेकर सरसों के तेल का हाथ लगाकर हाथ पर फैलाकर दाल की पीठी भर कर हल्के हाथ से ही कचौड़ी बनाकर कपडे पर रखते जाएं ।
  9. अब कडाई में तेल गरम करें एक एक कचौड़ी डालते हुए धीमी आँच पर तल लें ।एक बार कचोरी पलट कर चाकू से कट के निशान बना दें जिस से वो कच्ची न रहे अंदर तक सिक जाए ।इसी तरह दोनों तरफ से ब्राउन होने तक तल लें और सभी कचोरी इसी तरह तल लें ।
  10. मीठी कचोरी बनाने के लिए गुड़ को थोड़े पानी में तहा कर खमीर वाले मिश्रण के साथ ही गुड़ के पानी से आटा गूंध लें । आलू कचोरी बनाने के लिए आलू की पीठी बना कर दाल की कचोरी की तरह भर कर बना लें ।
  11. इस खमीर वाले मिश्रण को थोडा अलग रख कर आप और भी आटा गूंध सकते हैं और खमीर उठा कर कचौड़ियां बना सकते हैं ।
  12. और गूंधे हुए आटे से भी थोडा आटा अलग कर के और आटा गूंध सकते हैं ।इसमें भी खमीर उठा कर कचौड़ियां बनाई जा सकती हैं ।
  13. इस रोटी को आप चार से पांच दिन तक रख सकते हैं ।सफ़र के दौरान ये रोटी बड़ी अच्छी लगती है ।
  14. इसको आलू टमाटर की सब्जी या गोभी गाजर मूली के अचार के साथ खाइये और खिलाइये

रीव्यूज़ (0)  

आप इस रेसिपी को कैसे रेट करेंगे? कृपया अपनी रिव्यू सबमिट करने से पहले एक स्टार रेटिंग डाले।

रिव्यु सबमिट करें

इसी तरह की रेसिपीज़

A password link has been sent to your mail. Please check your mail.
Close
शेयर