भारतीय भोजन से जुड़े गलत तथ्यों की वास्तविकता जांच

Spread the love

जब भी हम किसी भी रेस्टॉरेंट से कोई भी खाद्य वस्तु खरीदते या मंगवाते हैं । तो हमारे पास व्स्तृत श्रंखला होती हैं सोचनें के लिए । पर ऐसा क्यों ? क्या सच में लोगों को संतुष्ट करना मुश्किल हो गया हैं  ,या वे स्वास्थय के प्रति अधिक सजग हो गए हैं ? या कुछ और ?

खैर ! अधिकतर यह दुनियाभर में फैले भोजन से जुड़े विभिन्न गलत तथ्यों के कारण होता हैं ,जो खाद्य वस्तुएं खरीदने या मंगवाने के निर्णय को प्रभावित करते हैं । इनमें से अधिकतर पर विश्वास करते हैं और इसलिए ये हमारे दिमाग में भ्रांति उत्पन्न करते हैं ।

तो चलिए जानते है भोजन से जुड़े हुए कुछ गलत तथ्य

माइक्रोवेव का खाना स्वास्थय ते लिए हानिकारक हैं ।

क्या वाकई में ? एक माइक्रोवेव , जो कि व्यस्त दिनचर्या वाले लोगों के लिए वरदान हैं , स्वास्थय के लिए हानिकारक माना जाता हैं ।  खैर ! यह एक गलत धारणा हैं

यदि आप सब्जियों को गैस में उबालते हैं, तो सभी खनिज और अधिकांश विटामिन उस पानी में घुल जाते

हैं, जिन्हें हम आमतौर पर फेंक देते हैं। लेकिन, अगर हम कांच के कंटेनर के अंदर चिपके हुए पन्नी में

लिपटी हुई सब्जियों  को भाप देते हैं और फिर उन्हें माइक्रोवेव करते हैं, तो सभी पोषक तत्व बरकरार रहते

हैं। तो, माइक्रोवेव में खाना पकाना, वास्तव में, गैस पर खाना पकाने से बेहतर है।

अंडे खाना स्वास्थय के लिए हानिकारक हैं ।

यह सबसे अधिक फैला हुआ गलत तथ्य हैं  कि अंडे में बहुत अधिक वसा होती हैं । जो किस्वास्थय के लिए हानिकारक हैं । हालांकि एक अंडे में केवल 5 ग्राम वसा होती हैं  जिनमें से केवल 1.5 ग्राम वसीय अम्ल फैले होते हैं । यह मात्रा इतनी भी बुरी नहीं हैं स्वास्थय के लिए और इससे निश्चित ही किसी प्रकार की दिल की बीमारी नहीं होगी ।

लाल मांस पचनें में बहुत समय लेता हैं ।

यह कथन पूरी तरह से गलत है। यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुका है कि खाने के 3-4 घंटे के भीतर ही

सारा खाना हमारे पेट से बाहर निकल जाता है। यह भोजन 2-3 दिनों के भीतर हमारे शरीर से बाहर

निकाल दिया जाता है।

जमा  हुआ खाना सेहत के लिए बुरा है

फ्रोजन फूड भले ही सेहत के लिए अच्छा न हो, लेकिन हर खाने की चीज के साथ ऐसा नहीं है। विभिन्न

खाद्य उत्पाद हैं जो संरक्षण के लिए जानबूझकर जमे हुए हैं। इसके अलावा, इस बात की कोई गारंटी नहीं है

कि जो ताज़ी सब्जियाँ हम खरीदते हैं, वे बासी और ताज़ा नहीं बेची जातीं। यहां तक ​​कि अगर हम उन्हें

ताजा खरीदते हैं, तो हम उसी दिन इसका उपभोग नहीं करते हैं और अंततः इसे फ्रिज में संग्रहीत किया जाता है।

नॉन-स्टिक पैन खाना पकाने के लिए अच्छे होते हैं

नॉन-स्टिक पैन रसोई की शोभा को जरूर बढ़ा सकते हैं, लेकिन वे खाना पकाने के लिए आदर्श नहीं हैं।

जब इसे नॉन-स्टिक पैन में बहुत अधिक तापमान पर पकाया जाता है, तो यह PFOA केमिकल छोड़ता है।

यह गैस मनुष्य के लिए विषाक्त और हानिकारक है।

* ऑर्गेनिक सामान मानक सामान से बेहतर है

यह हमेशा सच नहीं होता है। ब्राउन शुगर और सफेद चीनी के उदाहरण पर विचार करें। उन दोनों में

केवल एक ही अंतर है कि सफेद चीनी में गुड़ नहीं होता है जबकि ब्राउन शुगर गुड़ में समृद्ध होता है।

हालांकि, वे दोनों शरीर को समान मात्रा में कार्बोहाइड्रेट प्रदान करते हैं। इसी तरह, क्रिस्टल के आकार को

छोड़कर सेंधा नमक और साधारण नमक में बहुत अंतर नहीं होता है। अन्यथा, आपके शरीर पर उनका समान प्रभाव पड़ता है।

Image Sources: Pixabay, Flickr, Wikipedia

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *