5 चीज़ें जो आपके बच्चे के भोजन में होना आवश्यक है

Spread the love

प्रत्येक माता-पिता यह जानते हैं कि बच्चों को “संतुलित आहार” खिलाना चाहिए और इसके लिए वह उन्हें कई तरह से पौष्टिक चीज़ें खिलाने की भरसक कोशिश करते हैं। बढ़ती हुई उम्र के बच्चों को विशेष तौर पर पोषण की ज़रूरत होती है ताकि उनके शरीर के विकास के लिए जरूरी पोषक तत्वों की पूर्ति हो सके। जब बच्चे के लिए जरूरी पोषक तत्वों को दिन भर के भोजन के द्वारा पूरा किया जाना है तो यह बहुत ज़रूरी हो जाता है कि इस भोजन में कुछ ऐसी वस्तुएँ अवश्य शामिल की जाएँ जिससे बच्चे के प्रत्येक भोजन को सर्वाधिक संतुलित और पोषक बनाया जा सके।

आइये आपको पाँच ऐसे आहारों के बारे में बताते हैं जो हर बच्चे को नियमित रूप से ज़रूर खिलाने चाहिए:

1.साबुत अनाज –

साबुत अनाज एक बढ़ते हुए बच्चे के आहार का महत्वपूर्ण हिस्सा होना चाहिए। ये बच्चे के लिए फाइबर, लौह, कार्बोहाइड्रेट अन्य विटामिन और खनिजों की पूर्ति सुनिश्चित करने का एक बढ़िया तरीका है। क्या आप को पता है कि साबुत अनाज का क्या अर्थ है? एक अनाज को तब पूरा माना जाता है जब कि उसके सभी तीन खाद्य भागों – छिलका, बीज और अन्तर्बीज यानि कि एंडोस्पर्म – उनके मूल रूप  में उपस्थित होते हैं। जब इस तरह के अनाज को खाया जाता है तो यह लंबे समय तक ऊर्जा देता रहता है। उदाहरण के लिए सफ़ेद गेंहू का आटा जब मिल से पिस के आता है तो केवल उसका अन्तर्बीज यानि कि एंडोस्पर्म का इस्तमाल किया जाता है और छिलके के साथ ज़रूरी पोषक तत्व जैसे कि फाइबर, विटामिन और खनिज पदार्थ निकल जाते हैं इसलिए ज़रूरी है कि आप अपने बच्चे के लिए साबुत गेंहू का आटा चोकर के साथ इस्तेमाल करें। अन्य साबुत अनाजों में दलिया, ओटमील, साबुत कॉर्नमील और ब्राउन चावल शामिल हैं।

 

2.रागी –

रागी एक तरह का बहुत ही पौष्टिक और स्वस्थ बाजरे का प्रकार है जो विशेष रूप से कैलशयम और लौह से भरपूर है। यह बच्चों के लिए उन सबसे अच्छे आहारों में से एक है जिन्हें वजन बढ़ाने के लिए दिया जा सकता है। रागी में विटामिन बी 1, बी 2 और कई अन्य खनिजों के साथ बहुत सारा फाइबर, कैल्शियम, और प्रोटीन होते हैं। यह सुपाच्य होता है और ह्रदय को मजबूती देने के साथ साथ शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढाता है।

 

3.सूखे मेवे –

दादी नानी के ज़माने से ही बच्चों को सूखे मेवे खास तौर पर सुबह उठकर भिगाये हुए बादाम खिलाने का प्रचलन है। ऐसा इसलिये है क्यूंकि सूखे मेवे एक स्वस्थ नाश्ता हैं और शरीर में गर्मी पैदा करने में मदद करते हैं, जो बदले में बीमारियों और संक्रमणों को दूर रखता है। सूखे फल आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं और शरीर के लिए बहुत फायदेमंद हैं। जैसे कि बादाम जो आवश्यक फैटी एसिड, प्रोटीन और फाइबर तथा विटामिन ई, सेलेनियम से भरे होते हैं तथा हीमोग्लोबिन बढ़ाते हैं। बादाम में मौजूद प्रोटीन बच्चों के मस्तिष्क के विकास में बहुत मददगार माना जाता है। इसी प्रकार ओमेगा -3 फैटी एसिड से भरे हुए अखरोट शरीर के कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद करते हैं और नींद को भी बढ़ावा देते हैं। इन्हें ब्रेन फूड भी कहा जाता है क्यूंकी ये मस्तिष्क के विकास में भी अत्यधिक सहायता करते हैं। अन्य सूखे मेवों में पिस्ते, काजू, किशमिश, खूंबानी और खजूर कुछ ऐसे मेवे हैं जो बच्चे के सर्वांगीण विकास के लिए बहुत ज़रूरी हैं।

 

4.मखाने –

मखाने बढ़ते बच्चों के लिए अनेक स्वास्थ्य लाभ देते हैं। लगभग 100 ग्राम मखाने 350 कैलोरी ऊर्जा उत्पन्न करते हैं और 1 औंस में लगभग 5 ग्राम प्रोटीन होता है, जो विकास के लिए एक आवश्यक पोषक तत्व है। फाइबर की अधिकता के साथ साथ ये भूख बढ़ाता है और कैलशियम का बढ़िया स्रोत है जो हड्डियों के विकास के लिए बहुत आवश्यक है।  

 

5.शकरकंदी –

विटामिन ए और बीटा कैरोटीन के साथ ही पोटेशियम से भरपूर  मीठे आलू बच्चों के लिए एक स्वादिष्ट नाश्ता है। मीठे आलू में विटामिन ई, कैल्शियम और फोलेट की अच्छी मात्रा होती है। क्यूंकि खनिज शरीर में स्वस्थ मेटाबोलिज़्म को सुनिश्चित करते हैं शकरकंदी इस के लिए एक चैंपियन की तरह काम करती है। यह लगभग सभी महत्वपूर्ण खनिजों का स्रोत है जिससे आपके बच्चे के शरीर को कैल्शियम, लौह, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस, पोटेशियम, सोडियम की भरपूर आपूर्ति होती है।

 

चित्र स्त्रोत: www.fitnessbloggen.no, www.pxhere.com  , www.wikimedia.com

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *