Search

Home / Uncategorized / ब्लड ग्रुप के अनुसार कैसा हो आपका आहार – शिखा शर्मा

ब्लड ग्रुप के अनुसार कैसा हो आपका आहार – शिखा शर्मा

Kavita Uprety | नवम्बर 19, 2018

बहुत कम लोग यह जानते हैं कि ब्लड ग्रुप के मुताबिक भोजन का चुनाव करने से वह ताउम्र रोगमुक्त रह सकते हैं। अनेक शोधों से यह सिद्ध हुआ है कि हर व्यक्ति का ब्लड एक खास तरह का होता है और कुछ चीज़ें खाने से उस व्यक्ति के शरीर पर अच्छा प्रभाव पड़ता है और कुछ का बुरा। इसी सिद्धान्त को मानते हुए कई सारे डाइटीशियन यह मानते हैं कि यदि व्यक्ति को उसके ब्लड ग्रुप के अनुसार खाना दिया जाए तो वह स्वास्थ्य की दृष्टि से ज्यादा लाभदायक होगा।

अभी हाल में ही डॉ. एडेमो द्वारा लिखित एक पुस्तक ‘ईट राइट फॉर योर टाइप’ प्रकाशित हुई जिसमें इस विषय पर उन्होने अपने शोध के नतीजे साझा किए। भारत की जानी मानी डाइटीशियन शिखा शर्मा ने भी इस बारे में विस्तार से यह बताया है कि अलग अलग ब्लड ग्रुप के क्या लक्षण हैं और उन्हें किस तरह का आहार लेना चाहिए। आइये आपको बताते हैं क्या कहना है शिखा शर्मा का।

शिखा कहती हैं सबसे पहले यह पता करें कि आपका ब्लड ग्रुप कौनसा है क्यूंकि हर ग्रुप की अपनी क्वालिटीज़ होती हैं।

 

1.ओ ब्लड ग्रुप और इसके सामान्य लक्षण –

जैसे कि ओ पॉज़िटिव ग्रुप के लोगों के शरीर में एसिड का लेवल प्राकृतिक रूप से ज्यादा पाया जाता है, एसीडिक चीजों का ज़रूरत से ज़्यादा सेवन जैसे कि अल्कोहल, सिगरेट, शराब और मिर्चमसालेदार भोजन का निरंतर अधिक प्रयोग करने पर शरीर में एसिड लेवल बढ़ जाने से इन्हें गैस की समस्या, भूख ज्यादा लगना और वज़न बढ्ने जैसे समस्याएँ होने लगती हैं।

कैसा हो ओ ब्लड ग्रुप का डाइट प्लान –

यह ब्लड ग्रुप थोड़ा एसीडिक होने के कारण विशेष रूप से गर्मियों में ठंडी चीजें जैसे कि जौ, ब्राउन राइस, पोहा और कई तरह का सलाद इनके लिए बहुत अच्छा माना जाता है।

 

2.बी ब्लड ग्रुप और इसके सामान्य लक्षण –

इस ग्रुप के लोगों में मीठे के प्रति विशेष स्वाद देखा जाता है। मानसिक तनाव होने पर इन लोगों को सामान्य से ज़्यादा भूख लगती है। इस ग्रुप के लोगों के शरीर में वॉटर रिटेंशन की टेंडेंसी भी देखी जाती है।

कैसा हो बी ब्लड ग्रुप का डाइट प्लान –

बी पॉज़िटिव ग्रुप के व्यक्तियों के लिए विशेष रूप से दालें बहुत अच्छी मानी जाती हैं और दालों पर आधारित खाना खाने से ये हल्का और फिट महसूस करते हैं। लेकिन ब्रेड, मैदा, आलू या चावल का ज़्यादा प्रयोग इनके लिए अच्छा नहीं माना जाता। यहाँ पर ध्यान देने वाली बात यह है कि माता और पिता दोनों के बी पॉज़िटिव न होने कि स्थिति में आप एक कोम्बीनेशन ग्रुप हैं और आपको अपना डाइट प्लान थोड़े वेरीएशन के साथ बनाना चाहिये।

 

3.ए ब्लड ग्रुप और इसके सामान्य लक्षण –

इस ग्रुप की यह विशेष बात यह है कि इनका शरीर अनाज़ खाने से ज़्यादा फिट और हल्का फुल्का रहता है जबकि मीट मछ्ली मांस इत्यादि खाने से इन्हें भारीपन और अनईज़ी महसूस होता है। दूध दही इत्यादि डेयरी प्रोडक्टस खाने पर भी इन्हें भारीपन और असहज महसूस होता है।

कैसा हो ए ब्लड ग्रुप का डाइट प्लान –

इन्हें अनाज़ पर बेस्ड डाइट ज्यादा लेनी चाहिए जैसे कि दलिया, पोहा, ब्राउन राइस और मूंग दाल इत्यादि। खाने में थोड़ा बहुत मीठा भी इस ग्रुप के लोगों के लिए नुकसानदायक नहीं होता और बिना ज़्यादा वज़न बढ़े आसानी से पच जाता है। लेकिन अगर आपके माता और पिता दोनों ए पॉज़िटिव नहीं हैं तो आप को एक कोम्बीनेशन ग्रुप माना जाएगा और ये ज़रूरी नहीं कि ए पॉज़िटिव ग्रुप का डाइट प्लान पूरी तरह से आपको सूट करे और आपको थोड़े वेरीएशन की ज़रूरत पड़ेगी।

 

4.ए बी ब्लड ग्रुप –

ए बी पॉज़िटिव ग्रुप के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि इन्हें अनाज़ के साथ साथ डेयरी प्रोडट्स भी उतने ही लाभकारी हैं। लेकिन इन्हें खाने की सही मात्रा का अंदाज़ा होना बहुत ज़रूरी है।

कैसा हो ए बी ब्लड ग्रुप का डाइट प्लान- 

इस ग्रुप के लोगों को खमीर वाला आहार जैसे कि इडली, डोसा, ढोकला इत्यादि विशेष रूप से पसंद होता है क्यूंकि यह खाने में हल्का होता है और इनके लिए लाभकारी भी माना जाता है।

ब्लड ग्रुप पर आधारित भोजन कुछ शोधों का परिणाम है और लोगों को ब्लड ग्रुप बेस्ड डाइट खाने से आशाजनक परिणाम भी मिलते हैं लेकिन इस पर अभी भी और अधिक शोध और वैज्ञानिक रिसर्च की आवश्यकता है। यदि आप इस तरह की डाइट को फॉलो करना चाहते हैं तो अच्छा यह रहेगा कि आप अपनी न्यूत्रीशनिस्ट या डाईटीशियन के परामर्श के साथ इस प्लान को बनाएँ ताकि आप इसका समुचित फायदा उठा सकें।

चित्र स्त्रोत: Public Domain Pictures Pixabay, Wikimedia Commons,  eg.all.biz, Wikipedia

Kavita Uprety

BLOG TAGS

Uncategorized

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *