Search

Home / Women Health Tips in Hindi / दिल का दौरा पड़ने के 9 लक्षण जो सबको पता होने चाहिए

दिल का दौरा पड़ने के 9 लक्षण जो सबको पता होने चाहिए

Ankit Kumar | जून 7, 2018

आज लगभग हर उम्र की महिलाओं के बीच ह्रदय रोग होना एक आम बात हो गयी है। अब वो दिन चले गए जब केवल बुजुर्ग लोग दिल के दौरे से प्रभावित होते थे। हार्मोनल असंतुलन के कारण आज युवा पीढ़ी को भी इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। एस्ट्रोजन का स्तर रक्त वाहिकाओं के कार्य को प्रभावित करता है। रक्त वाहिकाओं के ठीक से काम ना करने की वजह से रक्त के थक्के बनने लगते हैं जो मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में बाधा डाल सकते हैं। यदि सही समय पर इलाज नहीं किया जाता है तो दिल का दौरा घातक भी हो सकते हैं। ऐसे कई लक्षण हैं जिनसे आप ये समझ सकते हैं की आपको ह्रदय रोग की समस्या है और इसे जानकर आपको इससे निजात पाने में मदद मिलेगी-

1) बोली का अस्पष्ट होना-

यदि कोई व्यक्ति अचानक से अस्पष्ट बोल रहा है या घबराए हुए बातें कर रहा है तो संभावना है कि उसके बोल- चाल को संभालने वाले मस्तिष्क में रक्त प्रवाह बाधित हो रहा है, जिसके परिणामस्वरूप दिल का दौरा भी हो सकता है। इससे आगे जाकर व्यक्ति की सुनने और समझने की शक्ति बंद हो जाती है और साथ ही साथ उसका बोलना भी बंद हो जाता है। ऐसा होने पर आपको तुरंत डॉक्टर को फोन करने की ज़रूरत है।

2) बाजुओं का कमज़ोर होना-

यदि आपको स्ट्रोक (दिल का दौरा) का सामना करना पड़ रहा है तो आपको अपने हाथों को उठाना मुश्किल हो सकता है या आपके शरीर के एक तरफ के सारे अंग पूरी तरह से कमजोर लग सकते हैं जिससे आपको चलने- फिरने में भी मुश्किल होने लगेगी। शरीर को इससे बचाने के लिए उचित दवाइयों का लेना बहुत आवश्यक है।

 

3) बेहोशी-

जब दिल के दौरे के वजह से मस्तिष्क में ऑक्सीजन सप्लाई कम हो जाती है, तो किसी भी व्यक्ति के लिए चक्कर आना या बेहोश होना स्वाभाविक है। दिल का दौरा घातक ना हो जाएं इसलिए पहले से ही आपको ऐसी स्थितियों में कार्य करने की आवश्यकता है।

4)गंभीर सिरदर्द-

कई कारणों से सिरदर्द हो सकता है। दिल के दौरे के कारण सिरदर्द बहुत गंभीर और कष्टदायक होते हैं, ऐसे सिरदर्द को तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता होती है। सिरदर्द के द्वारा आपका शरीर दिल के दौरे के बारे में आपको संकेत देने की कोशिश कर रहा है। एक छोटा सा सिरदर्द भी आगे जाकर अन्य गंभीर परिस्थितियों को बुलावा दे सकता है जो मस्तिष्क को नुक्सान पंहुचा सकता है।

5) निगलने में कठिनाई-

औसतन, मनुष्य अपने लार को दिन में 600 गुना निगलते हैं। यदि अचानक, ऐसा करना मुश्किल हो जाता है, तो यह दिल के दौरे का एक निश्चित संकेत है।

6) हिचकी-

शुरू के कुछ मिनटों तक तो आपको हिचकी से कोई ख़ास परेशानी नहीं होगी, पर यदि हिचकी लम्बी समय से लगातार हो रही है और इसकी वजह से पेट में दर्द होने लगा तब हम बहुत चिड़चिड़ा मह्सूस करने लगता हैं। इस तरह के हिचकी वास्तव में एक दिल के दौरे का लक्षण हो सकता है।

7) धुंधला दिखना-

जब आप दिल के दौरे से ग्रसित होते हैं, तो आपके दिमाग में ऑक्सीजन की आपूर्ति रुक जाती है। यह रुकावट आमतौर पर मस्तिष्क के उस हिस्से को प्रभावित करता है जहां ओसीपीटल लोब मौजूद होता है। ओसीपीटल लोब हमारी दृष्टी का ख्याल रखता है। मस्तिष्क के इस हिस्से में ऑक्सीजन की आपूर्ति में अवरोध के वजह से दृष्टि धुंधली हो जाती है।

 

8) सांस की तकलीफ-

दिल के दौरे के लक्षण वाले लोगों को सांस संबंधी समस्याओं के कारण सांस की तकलीफ का सामना करना पड़ता है। जब दिल ठीक से काम करने के लिए पर्याप्त रक्त पंप करने में सक्षम नहीं होता है, तो धमनी अवरुद्ध होती है और व्यक्ति को सांस लेने में मुश्किल हो सकती है।

9)  जी मचलना-

अगर आपके पेट में किसी प्रकार की जलन महसूस होती है तो संभावना है कि यह दिल के दौरे के कारण हुई हो। जी मचलना दिल के दौरे की पहली सबसे स्पष्ट लक्षणों में से एक है।

 

चित्र श्रोत: wikimedia commons, pixabay, max pixel, pixnio, scott,coregano, pxhere,flickr

 

Ankit Kumar

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *