मोटापे से निजात पाने के घरेलु उपचार

Spread the love

उपयोग से अधिक कैलोरी का उपभोग करने से अतिरिक्त कैलोरी शरीर में जमा हो जाती है। ये संग्रहीत कैलोरी वसा के रूप में होती है और इस स्थिति को मोटापे के रूप में जाना जाता है।

मोटापे की वजह से उच्च रक्तचाप, मधुमेह, थायराइड, गठिया, गुर्दे की समस्याएं, यकृत की समस्याएं, हृदय की समस्याएं और कई अन्य बिमारियों के होने की सम्भावना बढ़ जाती है। सामाजिक, व्यवहारिक, हार्मोनल, पर्यावरण और सांस्कृतिक समेत कई कारक मोटापे का कारण बन सकते हैं। मोटापे के लक्षणों में सुस्त महसूस करना, जल्दी थकना और अत्यधिक पसीना होना आदि शामिल हैं।

मोटापे से निजात पाना बेहद ही आवश्यक है। यहां कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं जिनके सेवन से मोटापे को प्रतिबंधित किया जा सकता है-

 

1 .गरम पानी

स्रोत: https://cdn.pixabay.com/photo/2017/12/10/14/48/lemon-3010065_960_720.jpg

गर्म पानी में शहद और 2 चम्मच नींबू का रस मिलाकर पीना मोटापे से निजात पाने के लिए चमत्कारी सिद्ध हो सकता है। इसका सेवन पूरे दिन किया जा सकता है। यह विटामिन बी, विटामिन सी, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस और कैल्शियम में समृद्ध है। यह यकृत को साफ़ करता है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करता है और अंततः वजन घटाने की ओर जाता है।

 

2 .एलोवेरा

स्रोत: https://www.flickr.com/photos/ruthanddave/2574907529

सुबह के वक़्त 50 मिलीलीटर एलोवेरा के रस को 200 मिलीलीटर पानी में मिलाकर पीने से वजन घटने में सहायता मिलती है। एलोवेरा गुणों से भरपूर होता है और पानी वजन को कम करने में मदद करता है।

 

3 .उत्तरायणी खीर

स्रोत:https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/thumb/1/18/Achyranthes_aspera_%282891857287%29.jpg/800px-Achyranthes_aspera_%282891857287%29.jpg

5-10 ग्राम उत्तरायणी के बीज में पानी डालकर उबालें। इसमें अपनी इच्छा के अनुसार रॉक कैंडी या गुड़ और दूध मिलाएं और उबालें। 5 मिनट के लिए पकाएं और नियमित रूप से इसका सेवन करें। उपयोग से पहले बीज को अच्छी तरह साफ करना ना भूलें। उत्तरायणी के बीज पेट की वसा को कम करने के लिए जाने जाते हैं। यह बहुत ही लाभदायक है और आयुर्वेद में इसका एक महत्वपूर्ण स्थान है।

 

4 .बेल और गुग्गुल

स्रोत: https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/7/7f/Bael17_Mounts_Asit.jpg

24 ग्राम बेल के गुदे में 4-5 गुग्गुल के बीज को मिलाकर मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को दिन में दो बार लें (सुबह और रात में)। इसे सात दिनों तक रोजाना लें और फिर सप्ताह में एक बार लें। यह पेट के वसा को कम करने में मदद करता है।

 

5 .मेथी बीज

स्रोत: https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/e/e6/Fenugreek_seeds.jpg

एक चम्मच मेथी के बीज को रात भर के लिए भिगो दें। सुबह खाली पेट मेथी के बीज को चबाएं और निगल जाएं। इसके बाद पानी पी लें।

 

6 .गाजर और आमला

स्रोत: https://cdn.pixabay.com/photo/2015/12/08/16/10/isolated-1083235_960_720.png

तीन महीने तक नाश्ते में गाजर काट कर खाएं। इसके बाद, गाजर के प्रभावों को संतुलित करने के लिए, अगले तीन महीनों तक गाजर के जगह आमला खाएं। फिर अगले तीन महीने गाजर के साथ दोहराएं और फिर आमले को दोहराएं। आप एक वर्ष में अपने वजन को घटता हुआ महसूस करेंगे।

 

7.त्रिफला

500 मिलीलीटर पानी में 2 बड़े चम्मच त्रिफला पाउडर डालें और पानी के आधा होने तक उबाल लें। अब इसे छानकर ठंडा करने के लिए छोड़ दें। ठंडा होने पर इसके स्वाद को अच्छा करने के लिए शहद मिलाएं। रोजाना नाश्ते के बाद और रात के खाने के बाद इसका सेवन करें। त्रिफला विटामिन सी और कैल्शियम को बढ़ाता है, जो मोटापे से ग्रस्त लोगों की कमी होती है।

 

8 .पुदीना

स्रोत: https://cdn.pixabay.com/photo/2017/07/26/05/43/herb-2540568_960_720.png

अपने दैनिक आहार में पुदीने को शामिल करें। पुदीने की चटनी और रायता खाएं। इसका इस्तेमाल आप चाय में भी कर सकते हैं। यह पोषक तत्वों के बेहतर अवशोषण की सुविधा प्रदान करता है जो चयापचय की दर में वृद्धि करते हैं और वजन घटाने में सहायक होते हैं।

नियमित व्यायाम के साथ इन सरल घरेलू उपचारों का पालन करने से मोटापे को आसानी और प्रभावी तरीके से कम किया जा सकता है। उपर्युक्त उपचारों को आजमाएं और देखें कि आपके लिए कौनसा उपचार सबसे अच्छा काम करता है।

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *