मेटाबॉलिज़्म को बढ़ाने के 8 तरीके

Spread the love

मेटाबॉलिज़्म वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा इंसान के शरीर में खाना, ऊर्जा में परिवर्तित होता है। उच्च स्तर के मेटाबॉलिज़्म से उच्च स्तर का रूपांतरण होता है जिससे शरीर स्वस्थ और सुडौल रहता है। धीमें स्तर के मेटाबॉलिज़्म की वजह से वज़न बढ़ता है। लेकिन कुछ आसान टिप्स अपनाकर न केवल  मेटाबॉलिज़्म के स्तर को बढ़ाया जा सकता है, बल्कि वज़न को नियंत्रण में भी रखा जा सकता है, खासकर 30 की उम्र की बाद।

ये 8 सिद्ध किए हुए मेटाबॉलिज़्म बढ़ाने के तरीके हैं-

 

1) अपना भोजन किसी भी समय न छोड़ें, खासकर के नाश्ता

स्त्रोत : https://cdn.pixabay.com/photo/2016/02/19/10/29/breakfast-1209260_960_720.jpg

सुनिश्चित रूप से सुबह उठते ही 1  घंटे बाद पौष्टिक नाश्ता ज़रूर करें। यह इसलिए ज़रूरी है क्योंकि रातभर शरीर उपवास की अवस्था में रहता है और अब इसे सही तरीके से कार्य करने के लिए ऊर्जा की आवश्यकता होती है। कोशिश करें की किसी भी समय भोजन न छोड़ें।

 

2) साबुत अनाज से कीजिए दोस्ती

स्त्रोत :https://cdn.pixabay.com/photo/2017/09/22/10/21/oat-2775006_960_720.jpg

रोज़ के खाने में साबुत अनाज का उपयोग करें,  जैसे जौ, रागी, ओट्स, ब्राउन राइस, क्विनोआ आदि, क्योंकि इनमें भरी मात्रा में फाइबर मौजूद रहता है। क्योंकि साबुत अनाज को चबाना मुश्किल होता है, हमारा मुँह, जिसे ज़्यादा काम करना पड़ता है, 10 प्रतिशत ज़्यादा कैलोरीज़ को घटाने में सफल रहता है।

 

3) व्यायाम या वर्क-आउट करें

स्त्रोत : https://c.pxhere.com/photos/a2/8a/studio_raw_photo_fitness_exercise_gym_workout_fit-1366960.jpg!d

मसल्स सबसे ज़्यादा फैट घटाते हैं। मसल्स बढ़ाने के लिए, हफ्ते में 120 मिनट की स्ट्रेंथ ट्रेनिंग करने की कोशिश करें। इसके अलावा हफ्ते में 3 कठिन 45 मिनट के कार्डिओ एक्ससरसाइज़ सेशनस करें। डॉक्टर डेविड नियमन के मुताबिक, नियमित एक्ससरसाइज़ से और तीव्र मेटाबॉलिक स्तर के कारण घटने वाली कैलोरीज़ से 15 दिन में 1 पौंड फैट कम किया जा सकता है।

अगर आपके पास पूरा वर्कआउट करने के लिए समय नहीं है, आप छोटे लेकिन कठिन स्तर के 2.5 मिनट के वर्कआउट से आप पसीना बहा सकते हैं जिसके परिणाम में 200 कैलोरीज़ घटा सकते हैं।

 

4) हाई इंटेंसिटी वर्कआउट रूटीन को अपनाएं

स्त्रोत : https://cdn.pixabay.com/photo/2017/08/07/14/02/people-2604149_960_720.jpg

हमारा शरीर, संभवतः एक ही तरीके के वर्कआउट रूटीन से अभ्यस्त हो जाता है और इसके कारण शरीर पर व्यायाम के प्रभाव कम हो जाते हैं। हाई इंटेंसिटी वर्कआउट रूटीन से शरीर चुस्त रहता है जिसके कारण हर एक्ससरसाइज़ के दौरान ज़्यादा कैलोरीज़ घटती हैं।

 

5) स्ट्रेस और तनाव से दूर रहें

स्त्रोत :  https://cdn.pixabay.com/photo/2017/08/01/00/17/herbal-2562218_960_720.jpg

अगर कोर्टिसोल (स्ट्रेस हॉर्मोन) का स्तर बढ़ा हुआ है तब वह शरीर में फैट घटाने की योग्यता को दबाता है। इसलिए जब कभी भी आप स्ट्रेस्ड या परेशान महसूस करें तब एक मिनट शांति में गहरी सांस लेकर डी स्ट्रेस करने की कोशिश करें।

 

6) छोटे छोटे स्नैक खाएं, रात को सोने से पहले भी

स्त्रोत : https://cdn.pixabay.com/photo/2016/08/08/12/43/smoothie-1578240_960_720.jpg

दिन में तीन बड़े मील्स खाने की बजाय 6 छोटे मील्स खाने की कोशिश करें जिनमें से 3 मील्स सामान्य भोजन के हों और 3 मील्स स्नैक्स के हों। रात को सोने से पहले 100-200 कैलोरी का स्नैक खाकर सोएं। ऐसा करने से जब आप सोये हुए हों तब भी शरीर में फैट को घटाने में मदद होगी।

 

7) मसाले खाएं, दालचीनी का ज़्यादा उपयोग करें

स्त्रोत : https://images.pexels.com/photos/678414/pexels-photo-678414.jpeg?cs=srgb&dl=aroma-aromatic-assorted-678414.jpg&fm=jpg

गरम मसाले जैसे दालचीनी, लाल मिर्च और काली मिर्च आदि न केवल खाने का स्वाद बढ़ाते है परन्तु आपके शरीर में मेटाबॉलिज़्म का स्तर भी बढ़ाते है जिससे ज़्यादा कैलोरीज़ घटती हैं। ये मसाले शरीर के तापमान को बढ़ाते हैं जिसके परिणाम से मेटाबॉलिज़्म का स्तर बढ़ता है।

 

8) चीट मील खाएं, लेकिन कभी कभी

स्त्रोत : https://cdn.pixabay.com/photo/2013/12/18/16/37/bitter-chocolate-230307_960_720.jpg

कभी कभी जब मीठा खाने की लालसा होती है, डार्क चॉकलेट, कॉफ़ी या ग्रीन टी का चयन करें। इन सब में कैटेचिन जैसे एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं जो की मेटाबॉलिज़्म की प्रक्रिया को सक्रिय बनाते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *