क्यूँ आता है पेशाब में खून

Spread the love

स्त्री हो या पुरुष, पेशाब में खून आना किसी के लिए भी नॉर्मल नहीं कहा जा सकता। स्त्रियॉं में यह हर महीने होने वाली माहवारी से अलग तरह की ब्लीडिंग होती है और यह पेशाब के रंग को हल्का गुलाबी लाल या भूरा सा कर देती है। कभी कभी आपको यूरिन करते हुए यह साफ साफ दिखता है कि उसके साथ कुछ असामान्य रक्त के थक्के आपके पेशाब के रास्ते से आ रहे हैं। अगर आपके साथ भी ऐसा हो तो घबराएँ नहीं लेकिन इसे कतई नज़रअंदाज़ न करें। आपको तुरंत अपने चिकित्सक से मिल कर इसके कारण का पता लगाना चाहिए क्यूंकि यह किसी गंभीर बीमारी का एक प्रारम्भिक लक्षण भी हो सकता है।

पेशाब में खून आने की स्थिति को चिकित्सक हेमाट्युरिया कहते हैं। यह भी दो तरह का होता है। अगर यह खून साफ तौर पर पेशाब में दिखाई दे तो इसे ग्रौस हेमाट्युरिया कहते हैं और अगर यह आँखों से न दिखे लेकिन पैथोलॉजी टेस्ट में इसके कण माइक्रोस्कोप से दिखाई दें तो इसे माइक्रोस्कोपिक हेमाट्युरिया कहा जाता है।  

 

क्या क्या हो सकते हैं इसके कारण –

पेशाब में खून आने के मुख्य कारणों में किडनी में होने वाली पथरी जिसमें छोटे छोटे लेकिन कठोर पत्थर जैसे टुकड़े आपके पेशाब के रास्ते से फिसलते हुए बाहर आते हैं। इसके अलावा यूरिनरी ट्रेक इन्फेक्शन भी एक कारण हो सकता है। कभी कभी तेज़ रफ्तार से लगातार दौड़ने से भी पेशाब में खून आने की समस्या हो सकती है लेकिन ऐसे मामले बहुत कम और प्रोफेशनल एथलीट्स के साथ होने की संभावना ज्यादा रहती है।

कुछ अन्य कारणों में एंडोमेट्रोसिस (जब एंडोमेट्रियल ऊतक मूत्राशय से बाहर बढ्ने लगते हैं)  मूत्राशय या गुर्दे में और पुरुषों में प्रोस्टेट में किसी तरह का संक्रमण भी एक कारण हो सकता है। मूत्राशय या गुर्दे के कैंसर की संभावना भी इसका कारण हो सकती है।

 

क्या करें यदि आपको यह लक्षण दिखाई दें –

इसमें से कुछ भी अगर आपके साथ हो रहा हो तो आपको तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श लेने की ज़रूरत है क्यूंकि अप्राकृतिक रूप से रक्तस्राव होना कभी भी सामान्य नहीं होता। साथ ही आपको यह भी देखना चाहिये कि पेशाब में खून के साथ किसी तरह के अन्य शारीरिक लक्षण तो नहीं दिखाई दे रहे जैसे कि पीठ में दर्द या सनसनाहट इत्यादि।

पेशाब में खून की तुरंत जांच होना ज़रूरी है। गुर्दों में किसी भी तरह के संक्रमण होने की स्थिति में यह आगे बढ़ सकता है और आपकी परेशानी और अधिक जटिल हो जायेगी। डॉक्टर किसी भी संक्रमण का पता लगाने के लिए के लिए टेस्ट करेंगे और ज़रूरत पड़ने पर एमआरआई या सीटी स्कैन भी करवाने की सलाह देंगे जिससे यह पता चल सके कि कहीं आपके गुर्दे में पथरी या ट्यूमर तो नहीं।

लेकिन यहाँ पर समझने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि आप स्वयं इसमें अपनी कुछ मदद नहीं कर सकते और न ही ऐसे मामलों में आपको सेल्फ मेडिकेशन करना चाहिये।  बिना वक़्त गवायें एक चिकित्सक की सलाह लेना ही आपके लिए एकमात्र उपाय है।

 

चित्र स्त्रोत: Pixabay, Wikipedia, Wikimediacommans

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *