Search

Home / Uncategorized / हर औरत की कहानी – क्या आप भी सिर्फ दूसरों के बारे में सोचती हैं ?

हर औरत की कहानी – क्या आप भी सिर्फ दूसरों के बारे में सोचती हैं ?

Team BetterButter | जून 19, 2018

क्या देख रहे है ? रसोई की बिलकुल वैसी ही हालत है जैसे घर में सुबह होती है ! इसका ब्रेकफास्ट, उसका लंच, इसकी चाय, उसका दूध.. बस यही चलता है | घर के सब लोग यही सोचने लग गए है कि मेरे चार हाथ है | एक से शर्ट प्रेस करें, एक सब्जी बनाने के लिए, एक सबका खाना पैक करने के लिए और एक बच्चों को स्कूल के लिए तैयार करने का भी तो था | और मैं भी यही मान चुकी थी कि घर में सबकी जरूरतों का ख्याल रखना मेरी जिम्मेदारी हैं |

कितने सालों मैंने सबका ध्यान रखा |

आशीष तो हर वक़्त यही बोलते कभी खुद भी कुछ खा लिया करों, हर वक़्त दूसरों के लिए बनाती रहती हो | लास्ट की रोटी ठीक नहीं बनी, कोई नहीं मैं खा लूंगी ! सब्जी कम पड़ गयी ? बाकी सबको पूरी हो जाये, मैं तो दही से खा लूंगी ! ऐसी छोटी-छोटी अड़जस्टमेंट्स तो हज़ारो बार की थी | कभी-कभार अपने शरीर को तंदरुस्त रखने का भूत सवार हो जाएं तो ठीक 2 दिन प्रॉपर खाना, एक्सरसाइज और अपने लिए समय निकाल लेती लेकिन तीसरे दिन फिर वही हालात | आशीष ऑफिस से आये हैं -उनके लिए कुछ स्नैक्स बनाऊ या फिर अपनी एक्सरसाइज में टाइम वैस्ट करती ?  यहाँ तक कि एक दिन मैंने बच्चों को एप्पल काट के दिया और साथ ही एक केले को उठाया, नमक, निम्बू लगाया और अपने लिए लेके आयी | तभी मेरा छोटा बेटा बोला – मम्मी, मुझे केला खाना था | और ये गयी प्लेट उसकी तरफ | अब अपने लिए कुछ बनाना हो तो आलस बिन बुलाये आ जाता हैं | सोचा, छोड़ो रात के खाने का भी तो टाइम हो रहा हैं |

ये रोज की भाग-दौड़ चलती रही ना जाने कितने साल कि अचानक एक दिन मुझे सीने में दर्द होने लगा |

मझे लगा गैस हो रही हैं लेकिन वो कुछ और ही था | डॉक्टर से चेक-अप करवाया तो उसने बताया इनकी 80 % आर्टरीज़ ब्लॉक हैं | बाई-पास सर्जरी होगी |

और मेरा ऑपरेशन सक्सेसफुल हो गया | फिर तो पता नहीं कितने दिनों में कोई काम ना कर पायी | आशीष कुछ दिन तो बच्चों को भी देखते रहे, घर के छोटे-छोटे काम भी करते रहे, अपना ऑफिस भी लेकिन गुस्सा उनके चेहरे पर दिखाई देने लगा |

मेरी हालत इतनी ठीक नहीं थी लेकिन एक दिन आशीष के अंदर दबी चिड़चिड़ाहट शब्दों के रूप में बाहर निकल आयी – अरे क्या-क्या देखूँ ? इंसान हूँ, बच्चों का भी मैं ही देखूँ… और तुम्हारा भी …. बोलते-बोलते चुप हो गए | जैसे गलती से बोल दिया हो लेकिन मैंने तो सुन लिया !

उसके बाद बोले वो -बुरा मत मानना,मेरा वो मतलब नहीं था | लेकिन आशीष की एक बात मेरे लिए ज़िन्दगी भर का सबक बन गयी | क्या क्या देखूं ? इंसान हूँ ! ये शब्द मेरे दिलो-दिमाग में घर कर गए | अगर इतना काम एक इंसान नहीं कर सकता तो क्यों मैं अपने आप को खत्म कर, दूसरों की ज़िन्दगी सवार रही थी |

उस दिन मैंने महसूस  किया -जब तक आप दूसरों की उम्मीदों को पूरा कर रहे हैं तब तक सब ठीक हैं लेकिन जहा थोड़ी सी ऊच-नीच हो गयी, जो किया सो खत्म | जितनी हो सके सिर्फ उतना काम करें ! कोई मैडल नहीं मिलेगा लेकिन निंदा हो सकती हैं | और एक बहुत ही जरूरी बात सबको खुश रखना, सबकी हेल्थ का ध्यान रखना बेहद जरूरी हैं लेकिन सबसे पहले अपना ध्यान रखना जरूरी हैं | अगर आपकी हेल्थ नहीं तो अपनों का ख़याल कैसे रखेंगे? और अगर आप अपना साथ छोड़ेंगे तो शरीर भी आपका साथ छोड़ने लगेगा |

और एक और बात बता दूँ – जितना काम हम औरते कर सकती हैं, आदमियों को एक दिन भी करना पड़ जाएं तो धरती ऊपर और आसमान नीचे आ जायेगा !

 

चित्र स्त्रोत -Huffington post,grasping for objectivity, kevinmd.com, NRI cafe.com, inspired angela.word press, hinduism today

 

Team BetterButter

BLOG TAGS

Uncategorized

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *