Search

Home / Women Health Tips in Hindi / हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण और उपचार

Ankita Kumari | अगस्त 31, 2018

जब रक्तचाप किसी विशेष सीमा से आगे बढ़ता है, तो हाई ब्लड प्रेशर या उच्च रक्तचाप के लक्षण दिखने शुरू हो जाते हैं। हाई ब्लड प्रेशर में धमनियाँ संकुचित हो जाती हैं जिससे हृदय में रक्त के प्रवाह का प्रतिरोध बढ़ जाता है। हालांकि यह शुरुआत में खतरनाक नहीं होता, पर लम्बे समय से प्रेशर के बढे रहने पर आपकी दृष्टि, गुर्दे, मस्तिष्क और दिल को प्रभावित कर सकता है।

ऐसे कई लोग हैं जो हाई ब्लड प्रेशर से प्रभावित होते हैं पर उन्हें इसकी पहचान नहीं होती। एक स्वस्थ जीवन के लिए इसके लक्षणों को समझना बहुत ही आवश्यक है-

 

हाई ब्लड प्रेशर के प्रकार –

हाई ब्लड प्रेशर 2 प्रकार के होते हैं – एक प्राथमिक स्तर होता है जिसमे सालों तक आपके रक्तचाप में वृद्धि रहती है पर शरीर में इसके लक्षण नहीं दिखते। दूसरा माध्यमिक स्तर है, जिसमें गर्भावस्था, ट्यूमर, गुर्दे की समस्याओं या दवाइयां लेने की वजह से अचानक से रक्तचाप बढ़ता है।

 

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण –

हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण प्रारंभिक रूप में दिखाई नहीं देते हैं, पर कुछ वर्षों के बाद आप नीचे दिए गए लक्षणों में से एक या अधिक का सामना कर सकते हैं। इनमें किसी एक लक्षण का सामना करने पर भी अपने डॉक्टर से सलाह लेना ना भूले।

  • मूत्र से रक्त का आना।
  • गंभीर सिरदर्द।
  • सांस लेने में समस्या।
  • चक्कर आना।
  • नाक से खून आना।
  • धुंधला- धुंधला दिखना।
  • छाती में दर्द होना।

 

ब्लड प्रेशर के बढ़ने के कारण-

  • मोटापे के कारण रक्तचाप बढ़ सकता है। वजन में वृद्धि होने के कारण दिल में आसानी से रक्त पंप करना मुश्किल हो जाता है।
  • तम्बाकू का सेवन करने से धमनी की दीवारे पतली हो जाती हैं जिससे रक्तचाप बढ़ता है।
  • अधिक मात्रा में सोडियम लेने से शरीर में तरल पदार्थ की मात्रा बढ़ जाती है इसलिए रक्तचाप में वृद्धि होती है।
  • शारीरिक गतिविधियां नहीं करने से हृदय की गति बढ़ती है जिससे रक्तचाप में वृद्धि होती है।
  • परिवार में पहले से किसी को हाई ब्लड प्रेशर हो तो आपको भी ये बिमारी हो सकती है।
  • ज्यादा तनाव होने पर भी हाई ब्लड प्रेशर हो सकता है।

 

घर पर इन सरल और प्रभावशाली तरीकों को अपनाकर अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखें-

यदि आप मोटापे से ग्रस्त हैं, तो पहले अपना वजन कम करें। रोजाना 30 मिनट के कसरत की योजना बनाएं या प्रति सप्ताह 150 मिनट कार्डियो का टारगेट रखें। यह वजन को कम करने के साथ- साथ ब्लड प्रेशर को कम करने में भी मदद करेगा।

  • तनाव ख़त्म करने के लिए रोजाना योग करें या कम से कम 10-20 मिनट के लिए ध्यान लगाएं।
  • फलों और सब्जियों का सेवन करें और स्वस्थ भोजन खाएं। जंक फूड और तेलीय भोजन से बचें। ज्यादा से ज्यादा पानी पियें।
  • धूम्रपान और शराब के सेवन से बचें।

 

चित्र श्रोत: pixnio, libreshot,pixabay

Ankita Kumari

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *