5 संकेत जो बताते है बच्चों की आँखे कमजोर हो रही हैं

Spread the love

आजकल स्कूलों यहाँ तक कि घरों में भी कंप्यूटर, फ़ोन और टीवी का बोलबाला है | जिसका सीधासीधा असर आपके बच्चों की आँखों पर पड़ता हैं | बच्चों को बहुत ही कम उम्र में चश्मा लग जाता है| अगर आँखें कमज़ोर होने के लक्षण पहले से ही पता चल जाये तो आँखों की कोई समस्याओं से बचा जा सकता है |

तो आइये जानते हैं ऐसे कौन से 5 संकेत हैं जो बताते हैं की आपके बच्चे की आँखें कमज़ोर हो रही हैं –

1. पढ़ने/देखने की दूरी पर ध्यान दें (distance while reading)

reading -poor eyesight kids

अपने बच्चे की किताब पढ़ने और टीवी देखने की दूरी पर नज़र डाले | जैसे कहा जाता है कि ज्यादा आगे से टीवी नहीं देखना चाहिए, अगर आपका बच्चा अक्सर ऐसे करता हैं या फिर किताब जरुरत से ज्यादा पास रखकर पढता हैं तो उसकी आँखे कमजोर हैं |

 

2. रौशनी से परेशानी (sensitivity to light)

Sensitivity - poor eyesight kids

क्या आपके बच्चे को कैमरा फ़्लैश या स्क्रीन लाइट से परेशानी हैं ? क्या ज्यादा रोशनी होने पर उन्हें सरदर्द या उल्टी जैसा महसूस होता हैं ? तो ये वाकई कमजोर आँखों की निशानी हैं और इस पर तुरंत ध्यान देना जरूरी है |

 

3. लाल आँखे (red eyes)

Red eye - poor eyesight kids

जब आपके बच्चे टीवी देखते हैं या मोबाइल फ़ोन या कंप्यूटर पर गेम्स खेलते हैं तो ज्यादा देर तक स्क्रीन पर आँखे गड़ाये रखने की वजह से उनकी आँखों पर दबाव पड़ता हैं | इससे लाल हो जाती हैं और ऐसा होने पर आँखों को आराम देना जरूरी है | कुछ दिनों में ये ठीक हो जाता हैं और अगर नहीं होता तो डॉक्टर को ज़रूर संपर्क करें |

 

4. मोतियाबिंद (cataract)

Cataract - poor eyesight kids

अगर आपका बच्चा आँखों के आगे धुँधलापन या पीलापन आने की शिकायत करें तो ये लक्षण आँखो के कमजोर होने की तरफ इशारा करते हैं | डबल विज़न (दोहरी दृष्टि) मोतियाबिंद हो सकता हैं | प्राम्भिक अवस्था में इलाज करवाने से ये ठीक हो सकता हैं नहीं तो बच्चे को चश्मा लग सकता है |

 

5. ग्रे रंग (grey shades)

Blurred vison - poor eyesight kids

अगर आपके बच्चे के आँखों के सामने ग्रे रंग की झिल्ली सी आना शुरू हो जाती है तो उसकी आँखे कमजोर हो रही हैं | कोई भी आँख की बीमारी या शारीरिक चोट रेटिनल डिटैचमेंट का कारण बन सकती हैं तो ऐसे में जल्द से जल्द डॉक्टर को दिखाए |

अगर आपने अपने बच्चे में ऐसा कोई भी लक्षण देखा हैं तो आँखों के डॉक्टर को संपर्क करें और सहायता लें |

चित्र स्त्रोत-Google,fancythatfancythis

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *