करीना कपूर द्वारा दिए गए 5 पेरेंटिंग टिप्स

Spread the love

करीना कपूर खान अपनी अलग पर्सनालिटी के लिए हमेशा से मशहूर रही हैं और जब से उनके बेटे तैमूर अली खान पटौदी उनकी ज़िन्दगी में आये हैं इन दोनों ने तो अखबारों में एक परमानेंट जगह ले ली हैं | हर कोई इनके बारे में जानना चाहता है और करीना भी पेरेंटिंग को लेकर सभी पेरेंट्स से कुछ ऐसी बातें शेयर करना चाहती हैं जो आपके काम आ सकती हैं –

1. स्तनपान हैं प्यार और पोषण से भरा

करीना कपूर खान UNICEF के एवेरीचाइल्ड अलाइव नाम के कैम्पेन का एक एहम हिस्सा हैं और इस कैम्पेन का उद्देशय है दक्षिण एशिया में नवजात बच्चो के स्वास्थय के बारे में जागरूकता फैलाना | इसी के चलते करीना कहती हैं अपने नवजात बच्चों के लिए ब्रैस्ट मिल्क से अच्छा कुछ नहीं | उन्हें वो दें जो उनके लिए उचित है- नवजात बच्चों को जन्म के शुरुवाती घंटो से ही स्तनपान करवाना चाहिए | यहाँ तक कि नवजात शिशुओं को सिर्फ और सिर्फ माँ का दूध दें और कुछ नहीं |

 

2. माँ खुशमिज़ाज तो बच्चा खुशमिज़ाज

करीना कपूर मानती हैं कि अगर माँ खुश रहेगी तो बच्चा खुश रहेगा | बच्चा माँ का प्रतिबिम्ब होता है | आपके सामने पेरेंटिंग को लेकर कई चुनौतियां आएँगी जैसे कई बार आपको लगेगा क्या मैं सही कर रही हूँ? आपको हज़ारो सलाहें मिलेंगी लेकिन आपको देखना है आपके और आपके बच्चे के लिए क्या सही है | आप गलती भी करोगे लेकिन अपने आप को ठीक भी कर लोगे |

 

3. अंधविश्वास को छोड़े

करीना मानती हैं कि अंधविश्वास एक गहरी खाई है जिसमे गिर कर कोई वापिस नहीं आया | तो अंधविश्वास छोड़कर, बच्चे की डिलीवरी और आगे भी उसकी नियमित देख रेख के लिए प्रशिक्षित डॉक्टर से सम्पर्क में रहे | ऐसा करने से माँ और बच्चे दोनों ही सुरक्षित रहेंगे | उन्होंने कैम्पेन के दौरान ये भी कहा कि हमें बेटियों का भी उतना ही ख़्याल रखना चाहिए जितना कि हम बेटों का रखते हैं |

 

4. पिता का साथ है जरूरी

करीना कहती हैं “ऐसा कहा जाता है कि बहुत सी ऐसी चीज़ें हैं जो सिर्फ एक माँ कर सकती है लेकिन मैं ये भी मानती हूँ कि बहुत सी ऐसी चीज़ें जो एक पिता कर सकता है | जैसे कंगारू अपने पेट से बच्चे को लगाए रखता है वैसे ही सैफ भी तैमूर को वही प्यार देता है | जो भी पार्टनर डिलीवरी के बाद के एहम वक़्त में अपनी पत्नी का ख़्याल रखते हैं उनको मेरा सलाम |”

 

5. पेरेंटिंग हैं संयम और आत्मविश्वास का मिलन

करीना कहती हैं एक माँ बनने के बाद ही मुझे पता चला की माँ बनना कितनी बड़ी जिम्मेदारी है जैसे सही समय पर अपने बच्चों को हां और ना कहना | मैंने भी बहुत बार ऐसा अनुभव किया जब रात-रात भर मैं सो नहीं पायी | रोते हुए तैमूर को चुप कराने में कई बार मुझे भी चिढ़चिढ़ाहट होती थी लेकिन वो एक अनुभव था और तैमूर से जुडी हर चीज़ खूबसूरत है | बस थोड़ा सा संयम और आत्मविश्वास आपको हेल्प करेगा |

चित्र स्त्रोत – bollyspice.com

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *