हार्ट पल्पिटेशन के कारण व् उपचार

Spread the love

हार्ट पल्पिटेशन शरीर में दिल की धड़कन एक प्रकार की सनसनी है जो तब महसूस होती है जब दिल की कोई भी धड़कन छूटती है या जब आपके दिल की धड़कन किसी कारणवश तेज़ी से बढ़ना शुरू कर देती है। इस परिस्थिति में ऐसा महसूस हो सकता है की आपका दिल तेज़ी से दौड़ रहा है। हार्ट पल्पिटेशन के दौरान, आप अपने दिल की धड़कन को अच्छी तरह महसूस कर सकते हैं। यह सनसनी न केवल छाती के ऊपरी बाईं ओर महसूस होती है, बल्कि यह आपकी गर्दन, गले और छाती में भी महसूस की जा सकती है।

ज्यादातर, हार्ट पल्पिटेशन हानिरहित होते हैं और उनका इलाज स्वयं ही किया जा सकता है। हालांकि, मुश्किल मामलों में, ये गंभीर स्थिति के संकेतक भी हो सकते हैं। यदि आपके दिल की धड़कन नीचे दी गई किसी भी स्थिति से मिलती है तो डॉक्टर की राय लेकर इसकी तुरंत जांच करवाएं :

  • साँसों की कमी
  • सिर चकराना
  • छाती में दर्द
  • बेहोशी

हार्ट पल्पिटेशन के कारण

हार्ट पल्पिटेशन के कई कारण हैं। इन कारणों को गैर-हृदय संबंधी कारणों और हृदय संबंधी कारणों के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है।

गैर-ह्रदय से संबंधित कारण:

  • चिंता, भय और तनाव जैसी भावनाएं
  • कठोर शारीरिक गतिविधि/एक्टिविटी
  • कैफीन, निकोटीन, शराब और कोकेन का सेवन
  • चिकित्सा की स्थिति जैसे थायराइड, लो ब्लड शुगर और लो ब्लड प्रेशर
  • मासिक धर्म, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति के कारण हार्मोनल परिवर्तन होता है। गर्भावस्था के दौरान दिल की धड़कन एनीमिया का संकेत दे सकती है।
  • डाइट पिल्स और अस्थमा इनहेलर जैसी दवाएं। इनमें कुछ हर्बल और पोषक तत्वों की खुराक भी शामिल है।
  • इलेक्ट्रोलाइट के असामान्य स्तर।

दिल से संबंधित कारण:

  • पूर्व दिल का दौरा
  • कोरोनरी आर्टरी डिज़ीज़
  • हार्ट फ़ैलीयर
  • हार्ट वाल्व की समस्याएं
  • हार्ट की मांसपेशियों की समस्याएं

हार्ट पल्पिटेशन का प्रबंधन कैसे करें

हार्ट पल्पिटेशन का प्रबंधन इनके कारणों पर निर्भर करता है। ज्यादातर कारण गंभीर नहीं होते हैं और कईओं का तो जीवनशैली में परिवर्तन कर-कर आसानी से इलाज और प्रबंधन किया जा सकता है।

 

1) योगा

हार्ट पल्पिटेशन के मुख्य कारणों में से एक है तनाव। इससे निपटने का सबसे अच्छा तरीका योगा, ध्यान और ऐसे शारीरिक अभ्यास करना जो आपके दिमाग, शरीर और आत्मा को आराम दे सकें। मैडिटेशन या श्वास अभ्यास जैसे ‘प्राणायाम’, आपको अपने दिमाग को आराम देने और तनाव से छुटकारा पाने में मदद कर सकते हैं।

 

2) अपने आहार से कुछ खाद्य पदार्थों को दूर करना

कभी-कभी कार्बोहाइड्रेट, चीनी या फैट में समृद्ध भारी भोजन लेने के कारण हार्ट पल्पिटेशन हो सकते हैं। यह समझने के लिए की कौन से खाद्य पदार्थों के कारण ऐसा हो सकता है, एक डायरी रखना एक अच्छा विचार है जिसमें आप अपने डाइट का रिकॉर्ड रख सकतीं हैं। इससे आपको यह समझने में मदद होगी की कौनसे खाद्य पदार्थ आपको प्रभावित करते हैं, ताकि आप उन खाद्य पदार्थों का सेवन करने से बच सकें।

 

3) कैफीन की मात्रा काम करें

हार्ट पल्पिटेशन का प्रबंधन करने का एक और तरीका है की आप कैफीन की मात्रा पर कटौती करें। शराब की अत्यधिक खपत भी हार्ट पल्पिटेशन का कारण बन सकती है, इसलिए शराब के सेवन को भी सीमित करें।

 

4) धूम्रपान न करें

धूम्रपान बंद और तंबाकू से दूर रहें। धूम्रपान शायद हमारे शरीर के लिए सबसे हानिकारक चीज़ है। धूम्रपान के कारण अधिकांश स्वास्थ्य समस्याएं और चिकित्सा विकार उत्पन्न होते हैं। तो आज ही धूम्रपान छोड़ दें!

 

5) कुछ दवाइयों से दूर रहें

खांसी और ठंड के लिए निर्धारित कुछ दवाएं उत्तेजक के रूप में कार्य कर सकती हैं। हार्ट पल्पिटेशन के पीछे ये दवाएं भी हो सकतीं हैं। यदि आपको कुछ दवाएं लेने के बाद हार्ट पल्पिटेशन का अनुभव होता है, तो अपने डॉक्टर को इसके बारे में सूचित करें और उसे वैकल्पिक दवा देने को कहें।

ऊपर वर्णित तरीकों के अलावा, स्वस्थ आहार खाने का प्रयास करें, अपना वज़न प्रबंधित करें और अपने ब्लूड-प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रण में रखें। इससे आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में भी बहुत फायदा होगा।

स्त्रोत: Healthline, Heart to Heart Paediatric Cardiology, Pixabay, Texas Heart Institute, WebMd.

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *