Search

HOME / यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण और लक्षण

यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण और लक्षण

Ankita Kumari | सितम्बर 18, 2018

यूरिक एसिड के बढ़ने के कारण और लक्षण

जब किडनी अतिरिक्त यूरिक एसिड को हटाने में असमर्थ हो जाती है तब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ने लगती है। यूरिक एसिड रक्त में मिलकर पुरे शरीर में घूमता है। जब रक्त किडनी से गुजरता है, तो उसमे से यूरिक एसिड निकल जाता है और वो मूत्र और मल के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है।

यूरिक एसिड मुख्य रूप से एक अपशिष्ट उत्पाद है। यह तब बनता है जब शरीर खाद्य पदार्थों से पाई जाने वाली प्राकृतिक शुद्धियों को तोड़ता है।

हालांकि, जब यूरिक एसिड शरीर से बाहर नहीं निकलता, तो यह शरीर में जमा हो जाता है और शरीर के प्राकृतिक पीएच संतुलन को अम्लीय में बदल देता है जिसकी वजह से किडनी स्टोन, गठिया और जोड़ो में दर्द जैसी बीमारियां होती हैं। गंभीर मामलों में यह उच्च रक्तचाप, किडनी फेलियर और हृदय रोग जैसी बड़ी बिमारियों का रूप ले सकता है। महिलाओं के लिए यूरिक एसिड का स्तर 6 मिलीग्राम / डीएल और पुरुषों के लिए 7 मिलीग्राम / डीएल है।

 

कारण-

कभी-कभी कीमोथेरेपी जैसे बड़े ईलाज के दुष्प्रभाव से यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाता है, पर सामान्य मामलों में, यूरिक एसिड के बढ़ने के निम्नलिखित कारण हो सकते हैं।

  • मोटापा
  • अनुवांशिकता
  • मधुमेह
  • सोरायसिस
  • उच्च रक्तचाप
  • किडनी की बीमारी
  • हाइपोथायरायडिज्म
  • दिल की दवाएं
  • मूत्रवर्धक गोलियाँ
  • एंजाइम विकार
  • ज्यादा शारीरिक गतिविधि
  • विटामिन बी 3 या नियासिन के बढ़े स्तर
  • शराब का अधिक सेवन (विशेष रूप से रेड वाइन)

  • किडनी को कुशलतापूर्वक काम करने में अक्षमता
  • प्रतिरक्षा प्रणाली को दबाने वाले कुछ दवाएं
  • ट्यूमर लीसिस सिंड्रोम, एक ऐसी स्थिति जिसमें मृत कोशिकाओं को रक्त प्रवाह में तेजी से जारी किया जाता है
  • प्रोटीन समृद्ध आहार जैसे सूखे मटर, सेम, मशरूम, मांस इत्यादि।

 

लक्षण

यूरिक एसिड के लक्षणों को तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता है, संयुक्त लक्षण, किडनी के लक्षण और त्वचा के लक्षण।

1.संयुक्त लक्षण

जब शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है तो यह टूट कर जोड़ो में जमा हो जाते हैं जिसकी वजह से गंभीर दर्द और सूजन होने लगती है। कुछ लोगों को उनके शरीर के जोड़ गरम महसूस होने लगते हैं। इस स्थिति को गठिया कहा जाता है। गठिया आमतौर पर पैर के अंगूठे को प्रभावित करता है, जहां से यह एड़ी, घुटने, उंगलियों, कलाई और कोहनी तक जा सकता है। अगर वक़्त पर इसका ईलाज नहीं किया जाए, तो गठिया जोड़ों में स्थायी क्षति का कारण बन सकता है।

 

2.किडनी के लक्षण

जब मूत्र के रास्ते में टूटे हुए यूरिक एसिड जमा हो जाते हैं, तो ये किडनी में पत्थरों के विकास का कारण बन सकते हैं। किडनी स्टोन में पेट में गंभीर दर्द होता है जो पीछे से आगे की और बढ़ता है साथ ही साथ बुखार, ठंड, दर्द और मूत्र में खून आने की समस्या भी होती है।

 

3.त्वचा के लक्षण

जब कुछ वर्षों तक शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ा हुआ रहता है, तो टूटे हुए एसिड त्वचा के नीचे जमा होकर गांठ बनाने लगते हैं। इन गांठों को टोफी कहा जाता है, वे दर्दनाक नहीं होते और कोहनी, हाथ, उंगली और पैर की उंगली में पाए जा सकते हैं।

 

हालांकि जीवनशैली में बदलावों की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है। इसके लिए आहार में बदलाव लाएं, दिन में दो लीटर पानी पिएं और अल्कोहल की खपत को कम करें। उचित निदान और उपचार के लिए डॉक्टर से अवश्य  मिलें।

चित्र स्रोत: Wikimedia commons, Flickr and Pixabay