क्या हैं पेट के कैंसर के कारण और शुरुवाती लक्षण?

Spread the love

पेट का कैंसर आज सबसे ज्यादा होने वाले और जानलेवा रोगों में से तीसरे नंबर पर है। आनुवांशिक कारणों के साथ-साथ अव्यवस्थित जीवनशैली और गलत खान पान को इस रोग का मुख्य कारण माना जाता है। महिलाओं की तुलना में पुरुषों का इस रोग की चपेट में आने का अनुपात अधिक है। पेट के कैंसर को मेडिकल साइंस की भाषा में गैस्ट्रिक कैंसर भी कहा जाता है। यह असामान्य और विकृत कोशिकाओं का एक ढेर है जो एक साथ इकट्ठा होकर एक ग्रंथि का आकार ले लता है और फिर वहीं से फैलने लगता है। पेट के अंदर इस तरह की वृद्धि सबसे अंदर की तरफ की कोशिकाओं में होती है और फिर धीरे धीरे अन्य हिस्सों में फैलने लगती है जैसे कि आँतें, यकृत, भोजन नली इत्यादि। पेट के कैंसर के लगभग नब्बे प्रतिशत मामलों में एडीनोकार्सिनोमास नामक प्रकार देखा जाता है। जबकि इसके तीन और प्रकार लिम्फोमा, गैस्ट्रोइंटेस्टिनल स्ट्रोमल ट्यूमर और कार्सिनोइड ट्यूमर हैं जिनके मरीजों का प्रतिशत अपेक्षाकृत कम देखने को मिलता है।

 

क्यूँ होता है पेट का कैंसर?

चिकित्सा विज्ञान में पेट के कैंसर के बारे में कोई स्पष्ट कारण आजतक नहीं है लेकिन आनुवांशिक कारणों के अलावा गलत जीवन शैली को इस कैंसर के ज़्यादातर मामलों का मुख्य कारण माना जाता है। इनमें प्रमुख हैं-

 

1.एच पाइलोरी संक्रमण –

इस संक्रमण का कारण एक ऐसा बैक्टीरिया है जो पेट की अंदरूनी सतह पर एक चिपचिपी परत के अंदर रहता है। किन्हीं कारणों से इस में संक्रमण होने और लंबे समय तक बने रहने की वजह से सूजन और अल्सर जैसी स्थिति हो जाती है और यह घाव कैंसर में बदल सकते हैं।

 

2.सिगरेट पीने की आदत या शराब का अत्यधिक सेवन-

पेट के कैंसर की संभावना बहुत अधिक धूम्रपान करने वाले व्यक्तियों में बढ़ जाती है। सिगरेट के साथ साथ बहुत अधिक शराब पीने या अन्य मादक पदार्थों का सेवन करने से भी कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।  

 

3.मोटापा-

कुछ अध्यनों में यह बात भी सामने आई है कि पेट के इर्दगिर्द बढ़ा हुआ मोटापा अन्य बीमारियों के साथ साथ पेट के कैंसर को भी जन्म दे सकता है। हालांकि यह क़ैसर के मुख्य कारणों में से नहीं है और वैज्ञानिक रूप से इसकी पूरी तरह से पुष्टि होना बाकी है।  

 

4.हानिकारक खानपान-

अधिक तले भुने तथा तेज़ मिर्च मसालेदार भोजन का नियमित सेवन और नमक की अधिक मात्रा प्रयोग करने से पेट का कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। भुना हुआ और मसालेदार मांस मछ्ली तथा अचार आदि का नियमित सेवन भी इस खतरे को बढ़ाता है।

 

क्या हैं इस रोग के लक्षण ? 

पेट के कैंसर के शुरुवाती लक्षण पहचान में नहीं आ पाते हैं या ये कहा जा सकता है कि शुरुवाती अवस्था में इसके लक्षण स्पष्ट नहीं होते हैं। और जब तक कैंसर के कारणों का पता चलता है तब तक यह अमूमन आगे बढ़ चुका होता है। आनुवांशिक कारणों के अलावा इस के शुरुवाती लक्षणों में प्रमुख हैं।

 

1.पेट में दर्द अपच और भूख की कमी-

लगातार रहने वाला पेट दर्द इस बीमारी का संकेत हो सकता है। इस के साथ ही साथ यदि आपको खाने खाने के बाद अपच होने की समस्या भी होती हो और एक बड़े अंतराल में यदि आप को ऐसा लगे कि इन समस्याओं के साथ साथ आपकी भूख भी कम हो रही है तो आपको तुरंत चिकिसक को दिखाना चाहिए।

 

2.पेट की सूजन-

खाना खाने के बाद पेट में सूजन आना भी इस बीमारी का लक्षण होता है। इस के अलावा पेट के अंदर एक तरह का द्रव इकट्ठा होने से यदि पेट मे ढेले होने जैसा अनुभव होता हो तो यह बीमारी की बढ़ी हुई अवस्था का संकेत है।

 

3.कमजोरी, थकान तथा एनीमिया-

पेट के कैंसर के रोगी को लगातार रहने वाली कमजोरी तथा थकान महसूस होती है। शरीर में ताकत कम रहती है तथा धीरे धीरे खून की कमी होने लगती है।  

 

4.काले रंग का मल होना –

इस रोग के बढ़ने पर मल में खून आने के कारण उसका रंग काला सा हो जाता है जिसे चिकित्सकीय भाषा में मेलेना कहा जाता है।

इन में से कोई भी लक्षण लगातार होने पर आपको तुरंत चिकित्सक को दिखाना चाहिए। एक स्वस्थ जीवनशैली और उचित खानपान तथा व्यायाम से इस रोग से बचाव संभव है।

 

चित्र स्त्रोत: www.pixabay.com, https://commons.wikimedia.org, www.pxhere.com www.libreshot.com

 

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *