Search

Home / Uncategorized / अस्थमा के कारण, लक्षण और इससे निपटने के तरीके

अस्थमा के कारण, लक्षण और इससे निपटने के तरीके

Ankita Kumari | अगस्त 8, 2018

अस्थमा एक ऐसी बीमारी है जो सांस की तकलीफ और फेफड़ों के वायुमार्ग में सूजन पैदा करती है। हालांकि, शुरू में कई लोग अस्थमा से संबंधित लक्षणों से अवगत नहीं हो पाते हैं और इस वजह से ये बीमारी घातक हो जाती है। इसलिए सही समय पर अस्थमा से छुटकारा पाने के लिए इसे समझने और सही चिकित्सा लेने की सलाह दी जाती है।

 

कारण –

अस्थमा मुख्य रूप से मौसम की स्थिति या फ्लू के कारण होता है, यह श्वसन से जुड़ी बिमारियों की वजह से भी हो सकता है। इनके अलावा, अस्थमा तब ट्रिगर करता है जब व्यक्ति हंसने या रोने जैसी चरम भावनाओं से अवगत होता है। जब किसी के चिल्लाने पर सांस की कमी महसूस होती है तो उस व्यक्ति को अस्थमा के दौरे के आने की संभावना बढ़ जाती है। यह बीमारी सुगंध, धुआं, धूल, जानवरों और फूलों पराग से होने वाली एलर्जी के कारण उत्पन्न होती है।

यद्यपि ये कुछ सामान्य कारण हैं, लेकिन अस्थमा का मूलभूत कारण हमारे आस-पास का वातावरण होता है। यह किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली पर भी निर्भर करता है। कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली वाले व्यक्ति दूसरों की तुलना में जल्दी ही इस बिमारी का शिकार बन जाते हैं।

 

लक्षण –

  • हँसते, ज़ोर से बोलते या एक्सरसाइज करते वक़्त खांसी होना।
  • सांस बाहर छोड़ते वक़्त घरघराहट या खर्राटे जैसी आवाज़ आना।
  • सांस की तकलीफ होना।
  • छाती पर कठोरता महसूस होना।
  • सांस लेने में कठिनाई।
  • अक्सर सर्दी होना।
  • लम्बे समय के लिए खांसी होना।

यद्यपि ये लक्षण प्रारंभ में गंभीर नहीं होते, और यह भी ज़रूरी नहीं है की ऊपर दिए गए लक्षण महसून होने वाले हर उस व्यक्ति को अस्थमा है। पर जब आप लंबे समय तक उपरोक्त लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो अपने डॉक्टर से परामर्श करना बेहतर होगा।

 

अस्थमा का निवारण कैसे करें?

यदि आप अस्थमा से ग्रसित हैं तो आपको आसानी से सांस लेने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी होंगी।

  • डॉक्टर द्वारा निर्धारित एक इनहेलर का प्रयोग करें।
  • बहुत भीड़ वाले स्थानों पर न जाएं।
  • धूल, गंध और स्प्रे से दूर रहें, ये अस्थमा को ट्रिगर कर सकते हैं।
  • ठंड से छुटकारा पाने के लिए घर पर कुछ प्राकृतिक स्टीम थेरेपी लें।
  • हमेशा अपने डॉक्टर से परामर्श लें।
  • धूम्रपान का सेवन न करें।
  • अपने पर्दे बदलें, नियमित रूप से बेडस्प्रेड करें और अपने परिवेश को साफ रखें।

 

चित्र स्रोत – healthnaturalcare, wikipedia, science

Ankita Kumari

BLOG TAGS

Uncategorized

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *