टायफाइड के कारण, लक्षण और उपचार

Spread the love

टाइफोइड एक संक्रमण है जो साल्मोनेला टाइफी नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह संक्रमण प्रायः दूषित भोजन और पानी के कारण होता है। तो हमेशा नियमित रूप से अपने हाथ धोने के लिए सलाह दी जाती है। साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया एक संक्रमित व्यक्ति के मूत्र, मल, और रक्त के नमूने से पाया जाता है। यदि लंबे समय तक इलाज नहीं किया जाता है, तो यह घातक साबित हो सकता है। यद्यपि इस बीमारी का प्रभावी ढंग से इलाज किया गया है और पिछले कुछ वर्षों में समग्र संक्रमण दर में कमी आई है, फिर भी 3-5% मनुष्य इस बैक्टीरिया के वाहक के रूप में रहते हैं। यह केवल मानव से मानव तक फैलता है क्योंकि जानवरों में ये बैक्टीरिया नहीं पाया जाता ।

 

टाइफाइड बुखार किन कारणों से होता है ?

गंदगी इस बुखार का मुख्या कारण है। ये बैक्टीरिया ज्यादातर मनुष्यों के मल में मौजूद होते हैं। यह रोगियों के चारों ओर पानी को दूषित करता है और बदले में, इस दूषित पानी का उपयोग करके पकाए गए भोजन को प्रभावित करता है। प्रदूषित पानी के साथ फलों और सब्ज़ियों को धोने सेये बैक्टीरिया इंसानो के शरीर में प्रवेश करता है। ऐसा बैक्टीरिया मल, पानी और गटर में लंबे समय तक जीवित रह सकता है। सबसे खतरनाक बात यह है कि, इस बैक्टीरिया से प्रभावित लोगों को इसके बारे में तब तक पता नहीं चलता जब तक ये कोई गंभीर प्रभाव नहीं दिखाता।

इस तरह के दूषित भोजन की खपत पर, बैक्टीरिया मुंह में प्रवेश करता है, पित्ताशय की थैली, आंतों, यकृत, पूरे रक्त प्रवाह, अन्य अंग तक पहुंचता है और आंत तक पहुंच जाएगा। यह सप्ताह के लिए मेजबान प्रतिरक्षा प्रणाली से छुपा एक मरीज़ के शरीर में रहता है।

 

टाइफाइड के लक्षण

  • 30-40 डिग्री सेल्सियस तक गंभीर बुखार
  • सुस्ती या आलस्य
  • सरदर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • उल्टी
  • दस्त
  • भूख की कमी
  • गर्दन और पेट क्षेत्र पर चकत्ते या लाल धब्बे

लक्षण एक हफ्ते के बाद विकसित होने लगते हैं और संक्रमण के दिन से एक महीने या 30 दिनों के बाद भी दिखाई देंगे। अगर इलाज नहीं किया जाता है, तो आंतरिक आंत्र ऊतक छिद्रित हो सकता है।

 

उपचार और निवारक उपायों

टाइफाइड संक्रमण का इलाज करने का एकमात्र तरीका एंटीबायोटिक दवाओं के माध्यम से होता है। यदि आप ऊपर उल्लिखित लक्षणों में से किसी एक को देखते हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श लें और उचित उपाय करें। एंटीबायोटिक्स के अलावा, इस बैक्टीरिया से छुटकारा पाने के लिए बहुत सारा पानी पीकर अपने शरीर को साफ करना होगा।

 

टीकाकरण  –

यदि आप उन स्थानों पर जा रहे हैं जो टाइफोइड बीमारी से अधिक प्रवण हैं, तो सलाह दी जाती है कि आप वहां जाने से पहले टीकाकरण करें।

 

टाइफाइड को कैसे रोकें –

  • केवल बोतलबंद पानी पिएं जो कार्बोनेटेड है या या उबला हुआ पानी पिएं
  • सड़क के किनारे स्टालों में खाने से बचें
  • फल खुद तोड़कर उनका छिलका हटाकर खाएं। खाने से पहले धोएं।
  • अपने हाथ खाने से पहले धो ले।

स्वच्छता – सफाई अनिवार्य है। स्वच्छ वातावरण बनाए रखकर इस पुरानी बीमारी से बचा जा सकता है।

 

चित्र स्त्रोत – pixabay, max pixel, flickr , public domain

 

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *