7 मंदिर जिनसे जुड़े रहस्य आज तक सुलझ नहीं पाएं

Spread the love

देश विदेश में भारत को ‘ लैंड ऑफ़ टेम्पल्स ‘के नाम से जाना जाता है। हिन्दू धर्म में 33 मिलियन देवी देवताओं की मान्यता है और यह कोई अचरज की बात नहीं है की हमारे देश की लगभग हर गली में कोई न कोई मंदिर ज़रूर मौजूद है। लगभग हर मंदिर की कोई खासियत है, लेकिन कुछ मंदिर अपने रहस्यों के लिए मशहूर हैं और इस कारण ये सचमुच अद्भुत माने जाते हैं।

इस तरह के 7 रहस्यपूर्ण मंदिरों की सूची यहाँ दी गई है जो आपको सचमुच अचम्भे में डाल देंगी-

 

1.निधी वन, उत्तर प्रदेश

स्त्रोत : http://photos.wikimapia.org/p/00/01/88/29/66_big.jpg

भगवान कृष्ण को समर्पित, निधि वन कॉम्प्लेक्स में चारों तरफ भरपूर हरियाली है और यहीं पर रंग महल भी मौजूद है। यह क्ष्रेत्र बहुत सूखा है और यहाँ के पेड़ खोखले रहते हुए भी निधि  वन के सभी पेड़ साल भर हरे-भरे रहते हैं।

यह माना जाता है की भगवान कृष्ण और राधा हर रात यहाँ रास-लीला खेलने आते हैं और यहाँ के पेड़ भी जो की वास्तव में गोपियाँ हैं, इस रास-लीला में शामिल हो जाते हैं। कहा जाता हैं की रात को यहाँ घुँघरुओं की आवाज़ आती है और रोशनी भी नज़र आती है। मानना है की जो कोई भी इस नज़ारे को देखने की कोशिश करता है वह या तो अंधा हो जाता है, मर जाता है या अपना मानसिक संतुलन खो बैठता है।

 

2) तिरुमाला वेंकटेश्वरा मंदिर, आंध्र प्रदेश

स्त्रोत: https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/thumb/d/d9/Tirumala_Venkateswara_temple_entrance_09062015.JPG/748px-Tirumala_Venkateswara_temple_entrance_09062015.JPG

भगवान बालाजी की मूरत इस मंदिर में स्थापित है और यह 110 डिग्री F पर भी निरंतर रह चुकी है। इसके अलावा यह कहा जाता है की सर्दियों में यह मूर्ती पसीना बहाती है। कोई भी वैज्ञानिक अब तक इस रहस्य के पीछे का कारण साबित नहीं कर पाया है।

 

3) वीरभद्र मंदिर, आंध्र प्रदेश

स्त्रोत : https://cdn.pixabay.com/photo/2015/05/20/07/57/lepakshi-774935_960_720.jpg

हालांकि इस मंदिर में 70 खम्बे हैं, सबसे असाधारण खम्बा लटकने वाला खम्बा है। यह तैरता खम्बा ज़मीन को नहीं छूटा। मंदिर में आए भक्त कागज़ या कपडे के टुकड़े को इस खम्बे के  नीचे रख कर इस बात की पुष्टि करने के लिए उत्सुक रहते हैं।

 

4) जगन्नाथ मंदिर, ओडिशा

स्त्रोत: https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/7/7b/Shri_Jagannath_Temple%2CPuri.jpg

जगन्नाथ मंदिर के साथ कई रहस्य जुड़े हुए हैं। आज तक कोई भी इस बात का पता नहीं लगा पाया हैं की मंदिर के ऊपर लहराता हुआ झंडा हवा की दिशा से विपरीत दिशा में ही क्यों लहराता है या क्यों कोई मंदिर के मुख्य गुम्बद की परछाई को दिन के किसी भी समय देख नहीं पाता। मदिर में प्रशाद पकाने के कार्य के लिए 7 घड़े एक के ऊपर एक रखें गए हैं, लेकिन यह हैरानी की बात है की सबसे ऊपर के घड़े में रखा खाना सबसे पहले पक कर तैयार हो जाता है और नीचे रखे आखरी घड़े का खाना सबसे अंत में पक कर तैयार होता है। यहीं नहीं, हर दिन एक ही मात्रा में खाना बनता है और इस खाने से मंदिर में आए सभी भक्तों को प्रशाद खिलाया जाता है, चाहे उनकी संख्या हज़ारों में हो या लाखों में हों और यहाँ खाना कभी ज़ाया नहीं जाता।

 

5) अनंथ पद्मनाभा स्वामी मंदिर

स्त्रोत : https://c1.staticflickr.com/8/7166/6580072031_bd440e0838_b.jpg

इस हिन्दु मंदिर में 7 गुम्बद हैं। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के निवेदन के बाद इनमें से 6 गुम्बद खोल दिए गायें हैं, 1 गुम्बद अभी तक बंद ही रखा गया है। इन गुम्बदों के दरवाज़ों पर कोई तालें या लैच मौजूद नहीं हैं। कहा जाता है की गुम्बद को खोलने के लिए किसी गुप्त मंत्र को बोलना पड़ता है और किसी और तरीके से खोलने की कोशिश के भयानक परिणाम हो सकते हैं।

 

6) कामाख्या देवी मंदिर, असम

स्त्रोत : https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/0/0e/Kamakhya_Guwahati.JPG

यह मंदिर सबसे पुराने 51 शक्तिपीठास में से एक है और यहाँ  देवी सती की योनि मौजूद है जो एक लाल सदी में लिपटी है। हर साल वर्षा ऋतु के दौरान देवी के माहवारी के दिनों में, यह मदिर तीन दिनों के लिए बंद रखा जाता है। इन तीन दिनों के दौरान मंदिर के नीचे का भूमिगत जल भी लाल रंग का हो जाता है।

 

7 ) ज्वाला जी मंदिर, हिमाचल प्रदेश

स्त्रोत : https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/f/fb/Jwala_mukhi_Temple_Kangra.jpg

यह मंदिर भी देवी सती को समर्पित है और यहाँ की ज्योत 1 सदी से जलती आ रही है। आश्चर्य की बात यह है की वैज्ञानिक इस ज्वाला के ईंधन का रहस्य आज तक नहीं जान पाए हैं।

हालांकि भारत में ऐसे कई और रहस्यमयी मंदिर हैं जिनके पीछे के रहस्य आज तक नहीं सुलझ पाए हैं, इन मंदिरों तक यात्रा कर कर इन रहस्यों को अपनी आँखों से देखने का अपना अलग ही मज़ा है।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *