Search

Home / Uncategorized / आँखों से स्पष्ट होने वाले बीमारी के लक्षण

आँखों से स्पष्ट होने वाले बीमारी के लक्षण

Sonal Sardesai | नवम्बर 21, 2018

क्या आप जानते थे की आपकी आँखें आपके स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों की पहचान करने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं? वे वास्तव में आपके शरीर के लिए एक खिड़की हैं। ज़ाहिर है, आपकी आँखें आपके शरीर से बीमारी के संकेत उठाती हैं और आपके सामने लाती हैं। यदि आप लक्षणों को समझ लेते हैं, तो आप गंभीर चिंताजनक स्तिथि उत्पन्न होने से पहले ही उन्हें तुरंत ठीक कर सकते हैं। तो यहां हमारे पास कुछ सबसे आम स्वास्थ्य समस्याएं हैं जिनके प्रति आपको आपकी आँखें संकेत दे सकती हैं!

 

1.दृष्टिहीनता, मंद या दोहरी दृष्टि –

यह चिंता का एक गंभीर मामला है क्योंकि यह स्ट्रोक के कारण हो सकता है। किसी भी प्रकार के दर्द के बिना दृष्टि का सीधा नुकसान ऑप्टिक तंत्रिका में रक्त प्रवाह के अवरोध के कारण हो सकता है।

 

2.धुँधली दृष्टि –

टेक्नोलॉजी पर आज की दुनिया कायम है और आप अक्सर अपने रोज़ के कामों के लिए स्क्रीन देखते हैं, यह एक छोटा मोबाइल फोन डिवाइस या आपकी कंप्यूटर स्क्रीन हो सकती है, जो अक्सर धुंधली दृष्टि या जलन का कारण हो सकते हैं। यह मुख्य रूप से चमक या पिक्सेल रेज़ोलुशन में वृद्धि के कारण आपकी और आपकी आँखों की उचित विपरीतता की कमी के कारण है। इस प्रकार की स्तिथि को अक्सर कंप्यूटर विजन सिंड्रोम (CVS) के नाम से जाना जाता है।

 

3.एक आंख में ब्लाइंड स्पॉट (अँधेरा) होना  –

जीवन शैली में किसी भी प्रकार के कठोर परिवर्तन के साथ, जीवन के सभी क्षेत्रों में व्यक्ति को तनाव से गुज़ारना पड़ता है। नतीजन, उसे माइग्रेन या गंभीर सिरदर्द हो सकता है। इसके लक्षण आसानी से आपकी दृष्टि से उठाए जा सकते हैं। आपकी दृष्टि में एक ब्लाइंड स्पॉट या लगातार सिरदर्द के साथ एक लहरदार रेखा स्पष्ट रूप से ऐसी बीमारी की तरफ संकेत करती है जिस पर आपको विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है।

 

4.आँखों पर एक गांठ आना –

किसी विशेष समय अवधि के लिए आपकी आँखों / पलकों में या उनके आस-पास किसी प्रकार का स्टाई आना बीमारी का एक और गंभीर लक्षण है। यदि स्टाई एक ही स्थान पर से नहीं हट रहा या बार-बार उसी स्थान पर उभर जाता है तो यह एक प्रकार के कैंसर का एक रूप हो सकता है जिसे सेबेसियस कार्सिनोमा कहा जाता है। ऐसी स्थिति में तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

 

5.भौहें लुप्त होना –

एक लुप्तप्राय या पतली भौं दोनों हाइपोथायरायडिज्म और हाइपरथायरायडिज्म से जुडी हो सकती है। यह मुख्य लक्षण नहीं होना चाहिए, क्योंकि एक लुप्तप्राय भौं भी सूजन, ऑटोइम्यून बीमारी या किसी अन्य कमी के कारण हो सकती है। वजन घटाने के अलावा, और थकावट महसूस करने के अलावा, अन्य थायराइड के लक्षण एक पतले और सूखी भौं के साथ बहुत अच्छी तरह से देखे  जा सकते हैं!

 

6.उभरी हुई मोटी आंखें –

हाइपरथायरायडिज्म पर प्रकाश डालने वाला एक अन्य लक्षण उभरी हुई आँखें है। यह एक अति सक्रिय थायराइड ग्रंथि के कारण होता है।

 

7.आँखों के सफेद क्षेत्र का पीला पड़ जाना –

यदि आपको अपनी आँखों का सफेद हिस्सा पीले रंग में बदलता नज़र आता है, तो यह एक अस्वस्थ यकृत (लिवर), पित्ताशय की थैली (गॉल ब्लैडर), पित्त नली  (बाइल डक्ट) के कारण हो सकता है या यह पीलिया के कारण भी हो सकता है।

 

स्वाभाविक रूप से अपनी आँखों का ख्याल कैसे रखें?

  • धूम्रपान न करें और अपने लिवर का ख्याल रखें
  • अपने कार्डियो पर चेक रखें
  • ताज़ा हरी सब्ज़ियां जैसे मेथी, पालक, गाजर और फल जैसे पपीता, संतरे खाएं और नींबू पानी पिएं
  • जितना हो सके कंप्यूटर स्क्रीन से दूर रहें (हालांकि यदि आप काम कर रहे हैं तो यह अनिवार्य है)
  • आँखों को ताज़ा करने के लिए पानी के एक कटोरे के साथ अपनी आँखें धोएं
  • जब भी आपको समय मिले तब अपनी आँखों की एक्ससेरसाइज करें

अब जब आप जानते हैं की आपकी आँखें आपकी स्वास्थ्य परिस्थितियों के बारे में बहुत कुछ बोलती हैं, तो अपनी आँखों द्वारा दिए गए संकेतों को तुरंत उठाकर अपनी आंखों और स्वास्थ्य पर अवश्य ध्यान दें!

 

चित्र स्त्रोत :  Wikipedia commons, flickr, wikipedia, public domain pictures

Sonal Sardesai

BLOG TAGS

Uncategorized

COMMENTS (0)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *