चक्कर आने के अंतर्निहित कारण और उसके उपचार

Spread the love

पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही चक्कर आना बहुत आम प्रकरण है। हालांकि इसके प्रभाव खतरनाक नहीं होते और इसका इलाज भी जल्दी हो सकता है। कई बार चक्कर आना आपके शरीर द्वारा आपको दिया गया एक चेतावनी संदेश भी होता है जिसके प्रति तुरंत सतर्क होने की आवश्यकता रहती है और इसके लक्षणों पर भी ध्यान देना चाहिए। असल में, चक्कर आना खुद में एक विकार नहीं है बल्कि आपके शरीर में अन्य बीमारी का लक्षण है। इसके कारण, आप बेहोश हो सकते हैं और अपने शरीर पर नियंत्रण खो सकते हैं। यह मुख्य रूप से वर्टिगो से जुड़ा हुआ है। वर्टिगो एक ऐसा विकार है जब अचानक आपके आस-पास की दुनिया कताई में जा सकती है, जिससे संतुलन की कमी हो सकती है जिससे आपको उल्टी भी आ सकती है।

 

क्या आपको चक्कर आता है?

क्या आप सोच रहे हैं की चक्कर आने का मुख्य कारण क्या हो सकता है? खैर, विचार करने के लिए कई मुद्दे हैं। मूल रूप से, आपकी आंखें, रीढ़, मस्तिष्क,आपके पैर और कानों की तंत्रिकाएं आपके शरीर को संतुलित रखने में सहायता देती हैं। इनमें से किसी से जुड़ी एक बीमारी से भी चक्कर आने की सम्भावना रहती है क्योंकि मूल रूप से इसके कारण शरीर को सही ढंग से कार्य करने के लिए समर्थन प्रणाली की कमी हो सकती है।

जब कभी भी चक्केर आने पर आप अपने शरीर पर पूरी तरह से नियंत्रण खो देते हैं, बेहोश हो जाते हैं या गिर जाते हैं तो आपको अपने डॉक्टर से अवश्य संपर्क करना चाहिए। चक्कर आने  के पीछे कई अन्य कारण नीचे सूचीबद्ध किये गयें हैं।

  • अत्यधिक कठोर वर्क-आउट रूटीन
  • निर्जलीकरण / डी-हाइड्रेशन
  • आयरन की कमी
  • कम हेमोग्लोबिन की मात्रा
  • कान में हुए संक्रमण / इन्फेक्शन
  • लो ब्लड प्रेशर के कारण
  • स्ट्रोक
  • सिर पर चोट
  • मधुमेह / डायबेटीज़

 

इससे बचने के लिए आप क्या कर सकते हैं?

इस स्थिति खुद को बचाने के कुछ तरीकों का वर्णन नीचे किया गया हैं :

  • कैफीन, तंबाकू और शराब जैसे पदार्थों से बचें।
  • बहुत सारा पानी पीएं क्योंकि यह आपको हाइड्रेटेड रखता है और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल देता है।
  • तनावपूर्ण परिदृश्य और चिंता से बचें।
  • हर रात 7 से 8 घंटे की नींद अवश्य लें।
  • अगर आपको संदेह है की आपको कोई दवा लेने के कारण चक्कर आ रहे हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से परामर्श करें।
  • सोने या जागने के दौरान अचानक हिलने से बचें।
  • अपने दिमाग और अपने शरीर को स्थिर रखने के लिए योग अभ्यास करें।
  • यात्रा करने या सूर्य किरणों या बेहद गर्मी के माहौल से अतिरंजित होने से बचें।

 

घर पर चक्कर आने पर कैसे इलाज करें?

1) अदरक

अदरक शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने और मिनटों में चक्कर आने के लक्षणों को ठीक करने के लिए जाना जाता है। जब आप महसूस करते हैं की आप संतुलन खो रहे हैं तब आप अदरक के एक छोटे टुकड़े को चबाकर देखें या गरम गरम अदरक की चाय पीकर देखें,आप मिनटों में बेहतर महसूस करेंगे।

 

2) एकाग्रता के लिए व्यायाम

जब कभी आपको चक्कर आएं, अगर आप किसी भी वस्तु की तरफ अपना ध्यान केंद्रित  करें, यह आपके मस्तिष्क के फोकस को विचलित कर देगा और चक्कर आना बंद हो जायेगा। जब भी आपको चक्कर आए, बस फर्श पर लेटकर छत पर किसी भी वस्तु पर अपनी नज़र केंद्रित कर लें।

 

3) नींबू

नींबू का एक टुकड़ा निचोड़ें और इसे पानी में मिलाकर इसमें थोड़ा शहद डालकर मिलाएं। जब चक्कर आते हैं तो इसे पीएं। नींबू विटामिन C  में समृद्ध है और यह पोषक तत्वों से भरा है जो आपके शरीर को ताज़ा कर देंगे और मिनटों के भीतर आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देंगे।

 

4) श्वास के लिए व्यायाम

अनुचित मस्तिष्क कार्यों के कारण या आपके मस्तिष्क को उचित रक्त आपूर्ति की कमी के कारण, आपको चक्कर आ सकते हैं। श्वास अभ्यास आपके शरीर में पूरे रक्त और ऑक्सीजन की प्रासंगिक मात्रा को पंप कर आपके मस्तिष्क की गतिविधि को बढ़ाने में मदद करता है। 1 से 5 तक की गिनती करें और धीरे-धीरे श्वास लें और इसी प्रकार, 1 से 5 तक गिनने के दौरान श्वास को धीरे-धीरे बहार निकालें। यह आपके संतुलन को प्राकृतिक रूप से मिनटों में ही ठीक कर देगा।

 

5) मालिश

लैवेंडर जैसे एसेंशियल तेल से आराम से मालिश करें। कभी-कभी आपको अपने भीतर चिंता या तनाव की वजह से भी चक्कर आ सकते हैं। जब आप एक्यूप्रेशर पॉइंट्स पर मालिश करते हैं, तो यह आपके शरीर में तनाव का स्तर कम कर देता है और आपके शरीर और दिमाग दोनों को आराम देता है।

 

चित्र स्त्रोत : Pixabay, Flickr, Wikipedia commons

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *