हमारा बचपन हमारे बच्चों के बचपन से कैसे अलग है?

Spread the love

बचपन, यूँ तो यह शब्द सुनते ही हमें अपना बचपन याद जाता है और याद जाती हैं बचपन की कुछ खट्टी मीठी यादें। यह हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण भाग होता है, जैसे किसी भवन को मजबूत बनाने के लिए उसकी नीँव का मजबूत होना बहुत जरुरी है ठीक वैसे एक सुन्दर जीवन के लिए यादगार बचपन होना बहुत जरुरी है। चाहे वो खेल कूद हो या खिलौने आज का बचपन हमारे बचपन से बहुत अलग है।

आज हम चर्चा करेंगे कुछ ऐसे विषयों पर जिनमें हमारा बचपन आज से अलग है।

1) खेल

khel bachpan 1 (1)

हमारे समय में हमें आउटडोर गेम्स में ज्यादा रूचि होती थी। लेकिन आज कल तकनीकी विकास के बाद ज्यादातर बच्चें इंडोर गेम्स जैसे वीडियो गेम्स खेलना ज्यादा पसंद करते हैं। ये बच्चे आउटडोर गेम्स खेलने के लिए गलियों या मैदान की अपेक्षा स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स में जाते हैं।

 

2) खान पान

khana bachpan

अगर हम खान पान की बात करें तो यहाँ भी काफ़ी बदलाव गया है। पहले हम घर का खाना ज्यादा पसंद करते थे मगर आज के बच्चें घर के खाने की तुलना में पिज़्ज़ा बर्गर जैसे जंक फूड्स खाना ज्यादा पसंद करते हैं। यही कारण है की आजकल बच्चों में भी बीमारियां बढ़ गयी है।

 

3) स्कूल

school bachpan

तकनीकी के विकास के बाद स्कूल के काया कल्प में भी बहुत बदलाव आया है। आजकल बच्चों को स्कूल में  बैग ले कर जाने की ज़रूरत नई होती है उन्हें किताबें रखने के लिए स्कूल में ही लॉकर की सुविधा होती है। कहीं कहीं तो ऑनलाइन पढाई भी होती है जो हमारे समय में नहीं उपलब्ध थी।

 

4) खिलौने

khel bachpan 2

आजकल के खिलौने भी हमारे खिलौनों से बहुत अलग है। हमारे समय में हम प्लास्टिक के साधारण खिलौनों से खेलते थे मगर आज कल बाज़ार में तकनीकी से लैस खिलौने उपलब्ध हैं जो कि हमारे बच्चों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं।

 

5) बचपन की यादें

yadein bachpan

आजकल हम अपने बच्चों के जन्म से लेकर उनके बड़े होने तक एक एक पल को कैद कर लेते हैं जो कि हमारे समय में इतना आसान नहीं था। उस समय सबके पास मोबाइल नहीं  होता था और जिनके पास होता था उसमें भी इतना अच्छा कैमरा नहीं होता था इसीलिए हर वक़्त फोटो लेना संभव नहीं था।

 

6) शौक

shauk bachpan

अगर हम शौक की बात करें तो तकनीकी के विकास के साथ ही उसमें भी बदलाव गया है। मोबाइल फ़ोन्स, टैबलेट्स का प्रचलन काफ़ी बढ़ गया है और बच्चें भी फैशन और सेल्फी के शौक़ीन हो गए है।

 

7) सेविंग्स

savings bachpan

हमारे समय के बच्चों के लिए सेविंग्स का मतलब चुक्के में सिक्के डालना ही था मगर आजकल के बच्चे एक अच्छी रकम सेव कर लेते हैं।

 

8) इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स का इस्तेमाल

mobile bachpan

आजकल के बच्चों को मोबाइल फ़ोन जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स गैजेट्स से बहुत लगाव होता है बहुत कम उम्र के बच्चें भी इसका इस्तेमाल करना जानते हैं।

मगर बचपन तो बचपन ही होता है और हम हो या हमारे बच्चें सबको बचपन और उसकी यादें उतनी ही प्यारी होती हैं। इसे देख कर अगर आपके भी बचपन की कुछ यादें ताज़ा हुई हैं तो आप उन्हें हमारे साथ शेयर कर सकते हैं।

चित्र श्रोत : Images bazar, youtube, qualcomm, the better india

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *