Search

Home / Top Cooking Recipes in Hindi / क्या आप जानते हैँ जिन 10 व्यंजनों को आप भारतीय समझ कर चाव से खाते हें वह असल में विदेशी हैं

Wp Idnian Dihses Not Indian

क्या आप जानते हैँ जिन 10 व्यंजनों को आप भारतीय समझ कर चाव से खाते हें वह असल में विदेशी हैं

Himanshu Pareek | अगस्त 12, 2021

भारत खाने में अपने जायके और मिठास दोनों के लिए दुनिया भर में मशहूर है। हर कुछ किलोमीटर की दूरी पर हमारे यहाँ भाषा और खाने का स्वाद बदलता रहता है। हर राज्य का अपना पसंदीदा क्षेत्रीय भोजन है और हर किसी का अपना स्वाद है। पर कुछ चीज़ें तो हमारे यहाँ इतनी लोकप्रिय हो चुकी हैं कि बाहर की होकर भी अपनी सी लगती हैं। जी हाँ, एकदम सही सोच रहे हैं आप। भारत में ऐसे बहुत से व्यंजन हैं जिनका जन्म तो किसी और देश में हुआ पर वे अब भारतीय थाली का अभिन्न अंग बन चुके हैं। इस आर्टिकल में हम पर्दा उठाएंगे कुछ ऐसे ही व्यंजनों से जो एकदम विदेशी होकर भी देसी लगते हैं। आइये जानते हैं विस्तार से। 

10 विदेशी व्यंजन जो लगते हैं एकदम देसी

भारत में जितना स्वाद नमकीन व्यंजनों का लिया जाता है उतना ही लोग मीठे व्यंजनों को भी पसंद करते हैं। इसलिए जो विदेशी व्यंजनों की लिस्ट आपसे शेयर करने जा रहे हैं उसमें आपको यह दोनों चीजें ही देखने को मिल जाएंगी। तो आइए जानते हैं उन डिशेज़ के बारे में जो बन चुकी है अब हमारी भारतीय थाली का अभिन्न हिस्सा-: 

1. गुलाब जामुन

Gulab Jamun

गुलाब जामुन के बिना हमारा कोई भी त्यौहार और कोई भी शादी-पार्टी पूरी नहीं होती। निश्चित रूप से आप में से कई लोग ये जरूर मानते होंगे कि गुलाब जामुन एक भारतीय मिठाई है पर सच्चाई कुछ और ही है। दरअसल गुलाब जामुन एक पर्शियन डिश है और इसका मूल नाम भी पर्शियन ही है। पुराने समय में गुलाब जामुन को ‘इकमत-अल-कादी’ के नाम से जाना जाता था। उस समय गुलाब जामुन बनाने के लिए मावे की बॉल्स को शहद में डुबोया जाता था, पर समय के साथ उसका रूप बदलता गया। गुलाब जामुन बनाने की प्रचलित और टेस्टी रेसिपी आप यहाँ से देख सकते हैं। 

2. समोसा

Samosa

समोसे का लुत्फ हर मौसम में हम सभी ने खूब उठाया है और जाहिर तौर पर हम सभी मानते आए होंगे कि समोसा एक बहुत ही चटपटा भारतीय फ़ूड है पर आज हम आपका यह मिथक तोड़ने वाले हैं। दरअसल जिस समोसे को अभी तक हम सभी एक इंडियन व्यंजन समझ रहे थे उसकी खोज मध्य पूर्व में 10वीं शताब्दी में की गई थी जहां इसे संबोसा कहा जाता था। इसके बाद यह संबोसा व्यापारियों के साथ साथ चौदहवीं शताब्दी में मध्य एशिया में आया और बन गया समोसा। 

3. दाल भात

Dal Chawal

दाल भात को देखकर क्या कोई कह सकता है कि यह एक भारतीय खाना नहीं है? इसे खाने का अंदाज और इसे बनाने का अंदाज, सब कुछ इंडियन ही तो है, पर नहीं यह फिर भी एक भारतीय खाना नहीं है। डिटेल में बात करें तो दाल भात खाने की शुरुआत नेपाल से हुई और उसके बाद यह एक संस्कृति के रूप में पूरे हिंदुस्तान में फैल गया और आज हम इसे अपनी थाली से दूर नहीं रख सकते। 

4. राजमा

Rajma

राजमा-चावल आपने जरूर खाया होगा और कई लोग तो यह भी मानते हैं कि ये एक पंजाबी खाना है, पर आपको शायद ये जानकर हैरानी होगी कि राजमा पंजाबी खाना तो दूर, एक इंडियन खाना भी नहीं है। मूल रूप से राजमा खाने की शुरुआत पुर्तगाल से हुई थी और उसके बाद मेक्सिको से हमें ये पता लगा कि इसे उबालकर और पकाकर खाया जा सकता है। हालांकि कटे हुए प्याज और मसालों से भरा राजमा बनाने का श्रेय जरूर सिर्फ भारतीय लोगों को जाता है। 

5. चिकन टिक्का मसाला

Chicken Tikka Masala

अब चिकन टिक्का मसाला खाने की हमको इतनी आदत हो गई है कि कोई सोच भी नहीं सकता कि यह डिश विदेशी हो सकती है। पर आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्वाद में पंजाबी लगने वाली चिकन टिक्का डिश की शुरुआत स्कॉटलैंड के ग्लासगो शहर में हुई थी। यह व्यंजन ड्राई चिकन का एक बदला हुआ रूप है जिसे 1971 में सैफ अली अहमद द्वारा एक कस्टमर की रिक्वेस्ट पर बनाया गया था और उसके बाद यह डिश पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो गई।

6. फ़िल्टर कॉफी

Filter Coffee

फिल्टर कॉफी यानी साउथ इंडिया की लोकप्रिय ड्रिंक कापही। सुनने में लग सकता है कि यह एक इंडियन ड्रिंक है, पर ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। फिल्टर कॉफी पीने की शुरुआत यमन से हुई जहां पर इसे एक सूफी संत बाबा बुदान ने मक्का की अपनी धार्मिक यात्रा में खोजा था। इसके बाद ये संत यमन के मोचा से अपने साथ सात कॉफी बीन्स लेकर आये और भारत को मिली अपनी फिल्टर कॉफी कापही। 

7. विंदालू

Vindaloo

विंदालू आज भारतीय आहार का एक प्रमुख हिस्सा बन चुका है, जिसे विभिन्न विशेष अवसरों पर बनाया जाता है। हालांकि जिसे अब तक आप एक इंडियन व्यंजन समझकर बना रहे थे, आपको बता दें कि असल में विंदालू एक पुर्तगाली व्यंजन है जो कि गोवा के औपनिवेशिक काल में भारत में आया। यह पुर्तगाली व्यंजन Carne De Vinha D’alhos‘ का एक बदला हुआ रूप है जिसे सुअर के माँस को लहसुन और वाइन में मैरिनेट करके बनाया जाता है। 

8. जलेबी

Jalebi

इस लिस्ट में जलेबी का नाम देखकर आप जरूर चौंक जाएंगे, क्योंकि हम सब की मनपसंद जलेबी आखिर विदेशी कैसे हो सकती है? पर सच तो यही है कि जलेबी की मूल रूप से शुरुआत मिडिल ईस्ट में हुई थी जहां इसे जलाबिया कहा जाता था। हालांकि हम भारतीयों ने इसका रबड़ी जलेबी और दूध जलेबी जैसा स्वरूप इजाद कर लिया है पर मूल रूप तो अभी मिडिल ईस्ट का ही है। 

9. नान

Naan

कितना भी ना, नहीं, नान कर लीजिए पर इस फैक्ट को आप बदल नहीं सकते कि हम सबकी मनपसंद तंदूरी नान भी विदेशी है। ये भारत को पर्शिया की देन है जो औपनिवेशिक काल के दौरान भारत आई। अब व्यंजन कहीं का भी हो जो पसंद आ गया उसे खाना कोई कैसे छोड़ सकता है? 

10. बिरयानी

Biryani

इस लिस्ट में इतनी सारी चीजों को देखने के बाद तो आपने अंदाजा लगा ही लिया होगा कि आपकी मनपसंद बिरयानी भी हिंदुस्तानी नहीं है। भले ही नाम लखनऊ बिरयानी है पर यह डिश देन है पर्शिया की। वहाँ इसे बिरियन कहा जाता था जिसका मतलब होता है पकाने से पहले तलना, और इस तरह बन गई बिरयानी। 

तो ये थे कुछ व्यंजन जो बाहर के होकर भी घर के लगते हैं। अब डिश की पैदाइश कहीं हो, जिसे हम पसंद आ गए, और जो हमें पसंद आ गया, वो हिंदुस्तानी ही हो जाता है। तो खाते रहिये, मौज उड़ाते रहिये, शेयर करते रहिए ये पोस्ट दोस्तों के साथ और जुड़े रहिये BetterButter के साथ। 

Disclaimer-: BetterButter इस ब्लॉग में प्रकाशित किसी भी चित्र अथवा वीडियो का आधिकारिक दावा नहीं करता है। इस ब्लॉग में सम्मिलित दृश्य-श्रव्य सामग्री पर मूल रचनाकार के अधिकार का हम पूरा सम्मान करते है तथा प्रकाशित रचना का उचित श्रेय रचनाकार को देने का पूर्ण प्रयास करते है। अगर इस ब्लॉग में सम्मिलित किसी भी चित्र या वीडियो पर आपका कॉपीराइट है और आप उसे BetterButter पर नहीं देखना चाहते तो हमसे संपर्क करें। उक्त सामग्री को ब्लॉग से हटा दिया जायेगा। हम किसी भी सामग्री के लेखक, फोटोग्राफर एवं रचनाकार को उसका पूरा श्रेय देने में विश्वास करते है।

 

Himanshu Pareek

हिमांशु एक लेखक हैं और उन्हें खान-पान, आयुर्वेद, अध्यात्म एवं राजनीति से सम्बंधित विषयों पर लिखने का अनुभव है। इसके अलावा हिमांशु को घूमना, कविताएँ लिखना-पढ़ना और क्रिकेट देखना व खेलना पसंद है।

COMMENTS (1)

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *