डोली की रोटी | Doli ki roti in Hindi

1 रिव्यू
रेट करें
द्वाराGeeta Sachdev
निर्मित तिथि 17th Jul 2017
  • डोली की रोटी, How to make डोली की रोटी
डोली की रोटीGeeta Sachdev
  • डोली की रोटी | Doli ki roti in Hindi (5 लाइक्स )

  • 1 रिव्यू
    रेट करें
  • Geeta Sachdev
    निर्मित तिथि 17th Jul 2017

About Doli ki roti in hindi

डोली की रोटी मुल्तान शहर (जो अब पाकिस्तान में है ) का एक पारंपरिक पकवान है जो मैंने अपनी माँ से और मेरी माँ ने अपनी माँ से यानि मेरी नानी से सीखा । ये एक कचोरी है जो मीठी और नमकीन दोनों तरह से बनाई जाती है और ये मुल्तानियों की शान है , सब बड़े चाव से इसको खाते हैं ।चने की दाल एक प्रमुख सामग्री है जो इसमें प्रयोग की जाती है ।

  • तैयारी का समय15घंटे
  • पकाने का समय0मिनट
  • पर्याप्त8लोग
डोली की रोटी रेसिपी

डोली की रोटी बनाने की सामग्री ( Doli ki roti Banane Ki Samagri Hindi Me )

  • खड़े मसाले
  • 2 चम्मच खसखस
  • 2 चम्मच दरदरी कुटी हुई सौंफ
  • 1 छोटा टुकड़ा गुड़ या 50 ग्राम
  • 4 छोटे टुकड़े दालचीनी
  • 7 दाने लौंग
  • 7 दाने काली मिर्च
  • 5 मोटी इलाइची कुटी हुई
  • 1/2 जायफल
  • 2 चम्मच चने की दाल
  • 1-1/2 गिलास पानी एक बर्तन में अच्छी तरह उबाल लें ।
  • 1 छोटा कटोरा गेंहूँ का आटा मिलाने के लिए
  • 2 बड़े कटोरे गेहूँ का आटा कचोैरी के लिए
  • 2 बड़े चम्मच सरसों का तेल
  • भरावन के लिए/पीठी के लिए
  • एक कटोरी चने की दाल
  • 2 बड़े चम्मच तेल
  • 1/2 चम्मच हींग
  • 1 चम्मच जीरा
  • 1 चम्मच सौंफ
  • 1 चम्मच दरदरा कुटा साबुत धनिया
  • 1 चम्मच लालमिर्च
  • 1 चम्मच गरम मसाला पाउडर
  • 1 चम्मच नमक

डोली की रोटी बनाने की विधि ( Doli ki roti Banane Ki Vidhi Hindi Me )

  1. सभी मसालों को एक कटोरी में रख लें ।
  2. 2चम्मच चने की दाल लें
  3. 1-1/2 गिलास पानी एक बर्तन में अच्छी तरह उबाल लें । एक छोटे लोटे में सारे मसाले और दाल क़ी पोटली रख दें ।ऊपर से उबलता हुआ गरम पानी डाल कर तुरंत ढक्कन से ढक दें
  4. लोटे को किसी कपडे में लपेट कर गरम कपडे से ढक दें , फिर किसी गर्म स्थान पर रखें जहाँ हवा न लगे ।सारी रात के लिए रखा रहने दें ।गर्मी के मौसम में 5 से 6 घंटे का समय ही बहुत है ।
  5. बर्तन कपड़े से निकल कर देखेंगे तो दाल की पोटली के आस पास थोड़ी झाग दिखाई देगी ।इसका मतलब अब आटा गूंधा जा सकता है । इस मौसम में या सर्दी के मौसम में थोडा ज़्यादा समय लग सकता है और ज़्यादा गरम कपडे में रखने की ज़रुरत हो सकती है ।
  6. अब दाल की पोटली को अलग निकल लें ,और इसमे करीब एक कटोरा गेंहूँ का आटा डालकर गाढ़ा घोल तैयार केर लें ।दोबारा से मिश्रण को ढक कर 5 से 6 घंटे तक या खमीर उठने तक गरम स्थान पर रख दें ।
  7. अब इस घोल से गेंहूँ का आटा गूंधे । आटे को ज़्यादा नहीं गूंधना है बस मिलाना है इकटठा करना है साथ ही 2 कलछी सरसों का तेल भी डाल कर मिलाएं ।और फिर से एक दो घंटे के लिए रख दें ।
  8. अब भरने के लिए पीठी की तैयारी कर लेते हैं ।एक कटोरी चने की दाल भिगो कर एक सीटी लगा कर गला लें ।कडाई में तेल डाल कर हींग जीरा सौंफ धनिया गरम मसाला पावडर लाल मिर्च नमक डालकर छोंक दें और पानी सूखने तक भून लें । पीठी तैयार कर के अलग रख लें आटे की थोड़ी बड़ी पेड़ी/लोई लेकर सरसों के तेल का हाथ लगाकर हाथ पर फैलाकर दाल की पीठी भर कर हल्के हाथ से ही कचौड़ी बनाकर कपडे पर रखते जाएं ।
  9. अब कडाई में तेल गरम करें एक एक कचौड़ी डालते हुए धीमी आँच पर ताल लें ।एक बार कचोरी पलट कर चाकू से कट के निशान बना दें जिस से वो कच्ची न रहे अंदर तक सिक जाए ।इसी तरह दोनों तरफ से ब्राउन होने तक तल लें , और सभी कचोरी इसी तरह तल लें ।
  10. मीठी कचोरी बनाने के लिए गुड़ को थोड़े पानी में तहा कर खमीर वाले मिश्रण के साथ ही गुड़ के पानी से आटा गूंध लें । आलू कचोरी बनाने के लिए आलू की पीठी बना कर दाल की कचोरी की तरह भर कर बना लें
  11. इस खमीर वाले मिश्रण को थोडा अलग रख कर आप और भी आटा गूंध सकते हैं और खमीर उठा कर कचौड़ियां बना सकते हैं । और गूंधे हुए आटे से भी थोडा आटा अलग कर के और आटा गूंध सकते हैं ।इसमें भी खमीर उठा कर कचौड़ियां बनाई जा सकती हैं ।
  12. इस रोटी को आप चार से पांच दिन तक रख सकते हैं ।सफ़र के दौरान ये रोटी बड़ी अच्छी लगती है । इसको आलू टमाटर की सब्जी या गोभी गाजर मूली के अचार के साथ खाइये और खिलाइये
मेरी टिप: आटे को ज़्यादा नहीं गूंदना है बस मिलाना है , इकटठा करना है

Reviews for Doli ki roti in hindi (1)

Tanushree Goela month ago
Thanx for sharing this recipe..
Reply